ऐसा है अक्षय नवमी का महत्व, आज जरूर करें यह काम

कांसेप्ट फोटो - Sakshi Samachar

आज अक्षय नवमी का त्यौहार देशभर में मनाया जा रहा है। आज के दिन की मान्यता है कि आज के दिन हिन्दू धर्म को मानने वाले लोग अगर इस कार्य को करते हैं तो उन्हें अक्षय पुण्य मिलता है।

हर साल कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की नवमी को अक्षय नवमी मनायी जाती है। कुछ स्थानों पर इसे आंवला नवमी भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि इसी दिन मां लक्ष्मी ने भूलोक पर जाकर भगवान विष्णु और शिव जी की आंवले के रूप में एक साथ पूजा की थी और इसी पेड़ के नीचे बैठकर खाना भी खाया।

कांसेप्ट फोटो

इसीलिए इस दिन फलदार आंवले के पेड़ के नीचे खाना बनाने और उसका आंवले के वृक्ष को भोग लगाने के बाद ब्राह्मणों को खिलाना चाहिए इसके बाद प्रसाद स्वरूप अपने इष्ट मित्रों को खिलाना चाहिए।

यह है पौराणिक कथा

हमारे हिन्दू धर्म में मान्यता है कि आंवले के पेड़ की पूजा और इसके नीचे भोजन करने की प्रथा माता लक्ष्मी ने शुरू की थी। एक पौराणिक कथा के अनुसार एक बार माता लक्ष्मी पृथ्वी भ्रमण करने आई तो रास्ते में उन्हें भगवान विष्णु और शिव की पूजा एक साथ करने भावना जागृत हुई। इसके बाद माता लक्ष्मी के सामने इस बात की समस्या आ गयी कि एक साथ विष्णु और शिव की पूजा कैसे हो सकती है। तभी उन्हें ख्याल आया कि तुलसी और बेल का गुण एक साथ आंवले में पाये जाते हैं और यह दोनों पौधों का संयुक्त रुप जैसा है। इसीलिए इसी की पूजा शुरू कर दी।

मां लक्ष्मी ने आंवले की वृक्ष की पूजा प्रसन्न होकर विष्णु और शिव प्रकट हुए। लक्ष्मी माता ने आंवले के वृक्ष के नीचे भोजन बनाकर विष्णु और भगवान शिव को भोजन करवाया। इसके बाद स्वयं भोजन किया। इसी समय से यह परंपरा चली आ रही है।

इस दिन जरूर करें ये कार्य जिससे आपको कई लाभ हो सकते हैं....

  • अक्षय नवमी को आंवला नवमी भी कहते हैं। धर्मशास्त्रों के अनुसार, कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को आंवले की उत्पत्ति हुई थी। इसलिए इन दिन फलदार आंवले के पेड़ की पूजा जरूर करनी चाहिए।
  • आज के दिन सुबह और शाम के समय भगवान विष्णु को आंवले का भोग लगाना शुभ माना जाता है। इसलिए आंवले से बने प्रसाद का भोग या कच्चे आंवले का भोग लगाना मंगलकारी होता है।
  • आज के दिन की धार्मिक आस्था है कि इस दिन आंवले के वृक्ष के नीचे भोजन बनाने और पेड़ के नीचे बैठकर भोजन करने से अक्षय लाभ और अक्षय स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। भोजन में गिरने वाली आंवले की छोटी छोटी पत्तियों को भगवान का प्रसाद समझा जाता है।
  • आज के दिन की पूजा आंवले को शामिल करने के साथ साथ ज्यादा से ज्यादा प्रसाद के रूप में वितरण व सेवन करना चाहिए। आयुर्वेद के अनुसार, आंवला हमारी आंखों और सेहत के लिए अतिलाभदायक है, वहीं धार्मिकता के आधार पर यह श्रीहरि का प्रसाद है।
  • अक्षय नवमी के दिन दान का बहुत महत्व है। इस समय सर्दी चल रही है ऐसे में जरूरतमंद लोगों को गर्म कपड़े वितरित करना बहुत शुभ माना गया है। कहते हैं इस दिन दान करने से मिला हुआ पुण्य अक्षय होता है।
  • आज के दिन ब्राह्मण या भूखे को भोजन जरूर कराना चाहिए। धार्मिक आस्था है कि ऐसा करने से इस जन्म के साथ ही अगले जन्म में भी कभी अन्न-धन्न और संपदा की कमी नहीं होती है।
  • अक्षय नवमी के दिन सोना, चांदी या अन्य मूल्यवान रत्न खरीद सकते हैं। अगर कोई प्रॉपर्टी खरीदना चाहते हैं तो आज ही के दिन रजिस्ट्री कराना लाभकारी हो सकता है।
Advertisement
Back to Top