नई दिल्ली : राष्ट्रीय राजधानी के खान मार्केट स्थित होटल ताज एंबेसडर के कमरे में संदिग्ध हालात में एक मनोचिकित्सक का शव मिला है। प्रारंभिक जांच में पुलिस को यह आत्महत्या का मामला लगता है। फिलहाल पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

पुलिस के अनुसार, डॉ. करन चंद्रा के मां-पिता के बीच मन-मुटाव के चलते दोनों 2012 से ही दिल्ली में अलग-अलग स्थानों पर रह रहे हैं। करन का शव पोस्टमॉर्टम के बाद शनिवार को पुलिस ने परिजनों के हवाले कर दिया।

नई दिल्ली जिले के चाणक्यपुरी सब-डिवीजन की सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) प्रतिभा ने आईएएनएस को बताया, "पोस्टमॉर्टम और विसरा की रिपोर्ट का इंतजार है। रिपोर्ट आने से पहले कुछ ठोस कह पाना मुश्किल है।"

युवा डॉक्टर के सुसाइड करने की वजह पूछे जाने पर उन्होंने कहा, "संक्षिप्त सुसाइड नोट में लिंकिन पार्क बैंड के 'इन द एंड, इट डज नॉट इवन मैटर' के सिवा बहन और पिता का नंबर भर लिखा हुआ है। इसके अलावा कुछ नहीं। सुसाइड नोट की मदद से भी किसी अंतिम निर्णय पर नहीं पहुंचा जा सकता है।"

एसीपी ने आगे बताया, "करन चंद्रा पिछले साल यानी जनवरी 2019 से ही इस होटल में रह रहे थे। उनके माता-पिता के बीच तलाक नहीं हुआ है। इसके बाद भी वे दोनों अलग-अलग रह रहे हैं। करन की मां उसकी दो बहनों के साथ साकेत में रहती हैं। जबकि पिता मालवीय नगर में अकेले रहते हैं। करन कभी-कभार पिता के पास चला जाता था।"

करन के होटल के कमरे से शराब की बोतल मिली हैं, तो क्या सुसाइड से पहले उसने शराब भी पी थी? एसीपी प्रतिभा ने कहा, "रिपोर्ट के बाद ही कुछ ठोस निकल कर सामने आएगा। होटल के कमरे में (घटनास्थल) शराब मिली है। शराब का सेवन किया गया था या नहीं और कितनी मात्रा में किया गया था? यह भी विसरा रिपोर्ट में ही साफ हो पाएगा।"

यह मामला सुसाइड का ही है या कुछ और भी हो सकता है? एसीपी चाणक्यपुरी ने कहा, "नहीं..फिलहाल कुछ और संदिग्ध नहीं नजर आता है। कमरा अंदर से ही बंद था। इससे जाहिर हो जाता है कि करन के कमरे में कोई दूसरा शख्स नहीं गया। कमरे को होटल की 'मास्टर-की' से ही खोला गया है। इन तमाम बिंदुओं से लगता है कि यह सीधे-सीधे सुसाइड का मामला है। बाकी कुछ ठोस जांच के बाद ही कहना उचित रहेगा।"