बेंगलुरू : बेरोजगार मेकेनिकल इंजीनियर आदित्य राव ने मंगलुरु हवाईअड्डे पर बम रखने वाले संदिग्ध के रूप में समर्पण कर दिया है। पुलिस ने बुधवार को कहा कि उसे उस वक्त गिरफ्तार कर लिया गया, जब उसने कर्नाटक के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) कार्यालय पर जाकर समर्पण कर दिया।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, "मंगलुरु अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर सोमवार को एक देसी बम (आईईडी) रखने के मामले में प्रमुख संदिग्ध 36 वर्षीय आदित्य राव को डीजीपी के कार्यालय में समर्पण करने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया।"

अधिकारी ने आगे कहा, "राव को जांच के लिए राज्य द्वारा संचालित विक्टोरिया अस्पताल में ले जाया जाएगा और इसके बाद उसे उसकी हिरासत और मामले की जांच के लिए स्थानीय अदालत में पेश किया जाएगा।"

राज्य के गृहमंत्री बसवराज बोम्मई ने बताया कि पुलिस स्टेशन के पास स्थित राज्य डीजीपी-आईजी (महानिरीक्षक) नीलमणि राजू के कार्यालय में जाकर उसके समर्पण करने के बाद हलासुरू गेट पुलिस स्टेशन के सर्कल इंस्पेक्टर द्वारा संदिग्ध को गिरफ्तार किया गया।

बोम्मई ने कहा, "संदिग्ध ने मंगलुरु हवाईअड्डे में एक एयरलाइन (इंडिगो) के कार्यालय के बाहर काउंटर पर कुछ बम बनाने वाली सामग्री से भरे एक बैग को रखने की बात को स्वीकार किया है।" प्रारंभिक जांच के अनुसार, राज्य के तटीय इलाके में स्थित तीर्थनगरी उडुपी के मूल निवासी राव ने बेंगलुरू से मंगलुरु तक की यात्रा रातभर एक लॉरी में की और पुलिस को बताने का फैसला किया।

पुलिस अधिकारी ने कहा, "राव को एक परेशान मेकेनिकल इंजीनियर बताया जा रहा है, जिसे नौकरी से निकाल दिया गया है। उसके खिलाफ कुछ आपराधिक मामले दर्ज हैं। वह शहर से लगभग 40 किलोमीटर उत्तर में स्थित देवनहल्ली में बेंगलुरू अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे में पिछले साल कथित तौर पर बम होने की झूठी कॉल की थी, जिसके लिए चिक्कबल्लापुर जिला जेल में दो महीने बिताने के बाद जमानत पर है।"

सीसीटीवी कैमरे में जिस ऑटोरिक्शा में सवार होकर राव को हवाईअड्डे से बाहर निकलते देखा गया उसके चालक से पूछताछ करने पर पुलिस को उस होटल का पता लगा, जहां आरोपी ठहरा हुआ था और वहां उसने कुछ बम बनाने की सामग्री जैसे कि सफेद पाऊडर भी छोड़कर रखे थे।

यह भी पढ़ें :

एयरपोर्ट पर झगड़े के बाद यात्री ने उड़ाई विमान में बम की अफवाह

पत्थलगड़ी का विरोध करने पर झारखंड में 7 लोगों की हत्या, जानिए क्या है यह रिवाज

अधिकारी ने बताया, "राव ने पुलिस को बताया कि चूंकि उसे कोई बेहतर काम नहीं मिल रहा था, इसलिए पिछले दो महीने में वह जिस होटल में ठहरा हुआ था, उसी के बिलिंग सेक्शन में कर्मरत था।" बाजपे में स्थित मंगलुरु हवाईअड्डे पर उस वक्त अफरातफरी पैदा हो गई, जब केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) को एयरलाइन के चेकइन काउंटर के समीप छोड़ा गया एक काला बैगपैक मिला था।

बैग को सोमवार शाम को कंजूर के पास एक खाली स्थान पर ले जाया गया और विशेष बम निरोधी दस्ते ने उसे निष्क्रिय किया। आरोपियों की पहचान करने और उन्हें पकड़ने के लिए बड़े पैमाने पर एक तलाशी अभियान की शुरुआत की गई थी।

मंगलुरु पुलिस आयुक्त पी.एस.हर्ष ने ट्वीट किया कि तटीय शहर से एक विशेष जांच दल राव को हिरासत में लेने बेंगलुरू पहुंचेगा और जांच के लिए उसे मंगलुरु लाया जाएगा।

-आईएएनएस