हैदराबाद: दिशा रेप व हत्याकांड के मामले को लेकर पूरे देश में गुस्सा व्यक्त किया जा रहा है। सबका यही कहना है कि जल्द से जल्द आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए। उन्हें फांसी के फंदे पर लटका दिया जाना चाहिए तो वहीं कुछ लोग कह रहे हैं कि उन्हें सरेआम जला देना चाहिए जैसे उन्होंने दिशा को जलाया तभी दिशा की आत्मा को शांति मिल सकती है।

इस सबके बीच आरोपी न्यायिक हिरासत में है और कल उनकी दस दिनों की रिमांड के लिए पुलिस ने शादनगर कोर्ट में पिटिशन दाखिल की है। उसी पिटिशन पर आज भी कोर्ट में सुनवाई होनी है। पुलिस द्वारा पिटिशन में कहा गया है कि उन्हें दस दिनों का समय आरोपियों का बयान रिकॉर्ड करने के लिए चाहिए। इस विषय में कोर्ट में फिलहाल सुनवाई चल रही है।

कोर्ट द्वारा आरोपियों को नोटिस जारी किया गया है जिसमें आरोपियों से पूछा गया है कि क्या उन्हें सरकार द्वारा वकील मुहैया कराया जाए। वहीं दूसरी ओर शादनगर कोर्ट में वकील प्रदर्शन कर रहे हैं और कोई वकील दिशा के आरोपियों का केस लड़ने के लिए तैयार नहीं है। उनका कहना है कि इन दरिंदों का केस लड़कर हम अपने जमीर को बेच नहीं सकते, इनको तो ऐसे ही सजा दे देनी चाहिए।

इस सबके मद्देनजर चर्लापल्ली जेल के बाहर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए हैं और सारे इलाके में 144 सेक्शन भी लागू कर दिया गया है। शादनगर कोर्ट के बाहर भी भीड़ का जमावड़ा साफ देखा जा सकता है। सबकी नजर इस केस पर ही लगी है कि आखिर कब और कैसे होता है दिशा के साथ इंसाफ।

वहीं दूसरी ओर दिशा के परिवार में सिस्टम के प्रति गुस्सा साफ देखा जा सकता है। जहां बहन कह रही है कि समय रहते उनकी शिकायत पर पुलिस ध्यान देती तो आज दिशा जिंदा होती वहीं मां अपना दर्द बयान करते हुए साफ कह रही है कि आरोपियों को भी सरेआम जिंदा जला देना चाहिए।

इसे भी पढ़ें :

दिशा हत्याकांड: शादनगर कोर्ट में हुई आरोपियों की पेशी, पुलिस ने मांगी 10 दिन की रिमांड

4 लोगों ने 7 घंटों तक Priyanka Reddy को किया था टॉर्चर, पोस्टमॉर्टम में खुलासा

पिता तो साफ कह रहे हैं कि पुलिस अगर उस समय शिकायत पर गौर करती बजाय फब्तियां कसने के तो उनकी होनहार बेटी बच जाती। परिवार को न्याय का इंतजार है। वे चाहते हैं कि जल्द से जल्द उन्हें न्याय मिले ।

देखना है कि इस केस में शादनगर कोर्ट में आज क्या कुछ होता है, पुलिस की पिटिशन पर कोर्ट में सुनवाई जारी है।