सुंदरगढ़ (ओडिशा): जादू टोना और अंधविश्वास के चक्कर में इंसान किस हद तक गिर सकता है। इसकी बानगी देखने को मिली ओडिशा के सुंदरगढ़ इलाके में। यहां तंत्र मंत्र के चक्कर में एक महिला का वहशी रवैया देखने को मिला। पूरी कहानी जानकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। काला जादू पाने की लालसा में महिला ने पहले तो चार साल की बच्ची का खून पिया और फिर उसे मरने के लिए तड़पता छोड़ दिया।

बताया जाता है कि महिला काला जादू का अभ्यास कर रही थी। झुमका गांव में इंद्राणी साध की बेटी के साथ ये हादसा हुआ। इंद्राणी आंगनवाड़ी केंद्र में काम करती हैं। जिसके चलते अक्सर वो अपनी बच्ची पर पूरा ध्यान नहीं दे पाती थीं। एक दिन बच्ची घर के पास ही खेल रही थी। अचानक वो गायब हो गई। परिवार के सदस्यों और परिजनों ने आनन फानन में पूरे इलाके में तलाश शुरू कर दी। काफी खोजबीन के बाद बच्ची का शव आरोपी महिला के घर से टिन के डब्बे में बरामद किया गया। बच्ची के गर्दन और पेट पर चोट के निशान पाए गए। ऐसा लग रहा था कि इन दो जगहों से बच्ची का पूरा खून निचोड़ लिया गया हो। गांव वालों के मुताबिक तंत्र मंत्र के चक्कर में ही आरोपी ने बच्ची का खून पिया है।

यह भी पढ़ें:

पत्नी की हत्या कर ड्यूटी पर जाता रहा पति, बेड के नीचे से मिली पत्नी की लाश

बच्ची की हालत देखने के तत्काल परिजन उसे अस्पताल लेकर गए। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना को लेकर लोगों में काफी गुस्सा है। पुलिस अगर हस्तक्षेप नहीं करती तो लोग आरोपी महिला को मार डालते। हालात की गंभीरता को देखते हुए पुलिस का भारी जाप्ता इलाके में तैनात कर दिया गया है।

वहीं पुलिस पूछताछ में आरोपी महिला ने बच्ची की हत्या या फिर खून पीने की बात से साफ इनकार किया है। जिस महिला पर शक किया जा रहा है वो किसी और का नाम ले रही है। महिला के मुताबिक नवीन साहा नाम के आरोपी ने ही बच्ची का खून किया और उसके घर में लाकर छिपा दिया है। वहीं सह आरोपी भी हत्या की बात से साफ इनकार कर रहा है। फिलहाल पुलिस हत्या की इस सनसनीखेज वारदात पर गहन छानबीन कर रही है।