हैदराबाद : स्थानीय बीएचईएल में एक महिला अधिकारी ने आत्महत्या कर ली। पता चला है कि डिप्टी ऑफिसर एकाउंट्स विभाग में कार्यरत भोपाल की रहने वाली नेहा चौकसे ने साथियों की प्रताड़ना से तंग आकर गुरुवार को आत्महत्या कर ली। पुलिस ने नेहा का सुसाइड नोट भी बरामद किया है।

नेहा ने सुसाइड नोट में लिखा है कि बीएचईएल के डीजीएम रैंक के अफसर और उसके साथियों द्वारा फोन हैक किए जाने, प्रताड़ित करने, उत्पीड़न करने और आत्महत्या के लिए उकसाने का जिक्र किया है।

आत्महत्या से पहले नेहा ने अलग-अलग जगहों पर सहकर्मियों की हरकतों के बारे में शिकायत भी की थी। नेहा ने पुलिस थाने में फोन हैक किए जाने की शिकायत भी हाल ही शिकायत भी दर्ज कराई थी।

इसे भी पढ़ें:

विशेष दर्जा की मांग को लेकर एक व्यक्ति ने की दिल्ली में आत्महत्या!

नेहा चौकसे ने अपने सुसाइड नोट में लिखा कि पति के साथ रहने के लिए उसने भोपाल बीचएईएल से हैदराबाद बीएचईएल में ट्रांसफर लिया था। हैदराबाद बीएचईएल में काम करने वाले डीजीएम फाइनेंस ऑर्थर किशोर कुमार ने उसे पिछले दो महीने में काफी प्रताड़ित किया। किशोर कुमार ने नेहा का फोन भी हैक कर लिया।

इसे भी पढ़ें:

हैदराबाद: सॉफ्टवेयर महिलाकर्मी ने की खुदकुशी, शादी से खुश नहीं थे पति के घरवाले

गहने बेचकर संक्रांति के लिए कपड़े ले आने से नाराज महिला ने की आत्महत्या

नेहा ने इस पत्र में किशोर कुमार के अलावा मोहनलाल सोनी, तीरथभासी स्वेन, सीताराम पेंटाकोटा और महेश कुमार के नाम भी लिए हैं। ये लोग नेहा पर अश्लील तंज कसते थे। नेहा के पत्र के मुताबिक, आर्थर ने उसे जान से मारने की साजिश रच ली थी।

भोपाल के कर्मियों पर भी लगाया प्रताड़ना का आरोप

नेहा ने अपने सुसाइड नोट में आरोप लगाया है कि भोपाल बीएचईएल के फाइनेंस डिपार्टमेंट में काम करने वाली नीलिमा, रूचिता, कल्पना, स्वाति और नेहा नाम की महिला ने भी उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित किया था। हैदराबाद तबादला होने के बाद इन लोगों ने वहां भी बदनाम करने की कोशिश की। नेहा ने पत्र में लिखा है कि आर्थर ने उनके पति और परिवार के अन्य सदस्यों के फोन भी हैक कर लिए थे।