पटना : बिहार के सुपौल जिले से हैवानियत और शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। दशहरे का मेला देखकर लौट रही दो सगी बहनों और उनकी मामी से पहले से घात लगाकर बैठे 7-8 बदमाशों ने बंदूक की नोंक पर गैंगरेप किया। इस दौरान अपनी छोटी बहन को दरिंदों के चंगुल से बचाने गई बड़ी बहन को उन्होंने गोली मार दी।

गंभीर रूप से घायल महिला को प्राथमिक उपचार के बाद पटना रेफर कर दिया गया। जहां उसकी मौत हो गई। यह घटना जिले के प्रतापगंज थाना क्षेत्र के कहरवा स्कूल से पश्चिम भेंगाधार पुल के पास मंगलवार रात करीब 8 बजे घटी।

क्या हुआ उस रात

कंचन देवी अपने पति बबलू मंडल और अपनी 16 वर्षीय बहन एवं मामा-मामी के साथ तीनटोलिया मेला मूर्ति विसर्जन देख कर आ रही थी। इसी दौरान मेला स्थल से पहले भेंगाधार के पुल के पास छह-सात बदमाशों ने हथियार दिखाकर सबको घेर लिया। फिर अपराधियो ने उसके पति एवं मामा को बांध कर मामी और कंचन के जेवरात छीन लिए और मारपीट करने लगे।

इतने से उनका मन नहीं भरा तो उन लोगों ने कंचन की छोटी बहन को पकड़कर छेड़छाड़ शुरू कर दी। उसका विरोध जब बड़ी बहन कंचन ने किया तो उसके सीने में गोली मार दी। उसके बाद छोटी बहन को उठाकर थोड़ी दूर ले जाकर दो लड़कों ने सामूहिक दुष्कर्म किया और वहां से फरार हो गए।

इसे भी पढ़ें :

घर में सो रही छात्रा से चार लड़कों ने किया गैंगरेप, फिर ईंट-पत्थर से कूंचकर की हत्या

खिड़की तोड़कर घर में घुसे बदमाश, महिला से गैंगरेप कर हुए फरार

गोली की आवाज सुनकर आसपास के ग्रामीण घटना स्थल पर पहुंचे तो सबको छटपटाता देखकर पुलिस को इसकी सूचना दी। ग्रामीण गोली लगने से घायल कंचन को उठाकर राघोपुर थाने ले गए। अपराधियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। पुलिस एक लड़की से साथ दुष्कर्म होना मान रही है। शेष 2 के बारे में उसका कहना है कि मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट आने के बाद ही दुष्कर्म की पुष्टि होगी।

इसे भी पढ़ें :

पहले तीन साल तक चला अफेयर, फिर थाने में हुआ निकाह, अब ऐसे उतरा इश्क का बुखार

आत्महत्या या किलिंग : ब्वॉयफ्रेंड के साथ मिली राजद विधायक के भतीजी की लाश

पीड़िता कंचन को अस्पताल ले जाया गया। उसकी हालत को देखते हुए पटना ले जाया गाय। वही बेहोश पड़ी छोटी बहन को सुपौल मेडिकल जांच के लिए रेफर कर दिया गया है। पीड़िता को होश में आने के बाद उससे पूछताछ के आधार पर अपराधियों की तलाश के लिए छापेमारी शुरू कर दी गई है।