नई दिल्ली : भारत की खुफिया एजेंसी ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए गुरदासपुर से पाकिस्तान के लिए काम करने वाले एक जासूस को गिरफ्तार किया है। उसे पाकिस्तान की ओर से ख़ास जानकारी और फोटो भेजने के बदले 10 लाख रुपए देने का वादा किया गया था।

इस मामले में पकड़े गए आरोपी की पहचान मलकीत सिंह के बेटे विपिन सिंह के तौर पर हुई है और वह गुरदासपुर के तिबरी इलाके का रहने वाला बताया जा रहा है।

सूत्रों से मिली अभी तक की जानकारी के मुताबिक आरोपी विपिन वॉट्सऐप के जरिए पाकिस्तानी हैंडलर्स को करतारपुर कॉरिडोर के निर्माण से जुड़ी फोटो और जानकारी भेजने का काम कई दिनों से कर रहा था। इसके बदले उसे 10 लाख रुपए मिलने वाले थे।

आरोपी ने मिलिट्री इंटेलिजेंस अफसर को बताया कि उसके हैंडलर्स ने उससे करतारपुर कॉरिडोर के अलावा भी कई सीक्रेट जानकारियां मांगी थी, जिसे वह इकट्ठा करके देने की कोशिश कर रहा था। फिलहाल गिरफ्तार किए गए जासूस को पुलिस के हवाले कर दिया गया है और मामले में और पूछताछ की जा रही है।

इसे भी पढ़ें :

संंगीता, निशा व आयशा के जरिए ISI खेल रही थी ‘हनीट्रैप’ का खेल, कॉल सेंटर का भंडाफोड़

ऐसी हैं मध्य प्रदेश में हनी ट्रैप करने वाली ब्यूटी क्वीन्स, अब तक 3 गिरफ्तार

आपको बता दें कि करतारपुर कॉरिडोर का काम लगभग पूरा हो चुका है। गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती से पहले करतारपुर कॉरिडोर को भक्तों के लिए खोले जाने की बात कही जा रही है। हाल ही में पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉक्टर मोहम्मद फैसल ने कहा था कि पाकिस्तान सरकार करतारपुर कॉरिडोर आने वाले हरेक व्यक्ति से 20 डॉलर (करीब 1425 रुपए) सर्विस फ़ीस लेगी।

हालांकि इस तरह की गिरफ्तारी से पाकिस्तानी की खुफिया एजेंसी आईएसआई द्वारा एंटी इंडिया गतिविधियों के लिए करतारपुर कॉरिडोर का इस्तेमाल करने की आशंका को सही साबित करने का मौका मिला है।