नई दिल्ली : दिल्ली के बवाना से 15 साल की एक लड़की को मुक्त कराया गया है। लड़की को उसकी मां ने पिछले सप्ताह कथित रूप से तस्करों को बेच दिया था। दिल्ली महिला आयोग ने रविवार को यह जानकारी दी।

महिला आयोग के अनुसार, मुक्त करायी गयी लड़की ने कहा कि उसकी मां ने उसके एक साल के भाई को पिछले महीने तस्करों को बेच दिया था। आयोग ने बताया कि लड़की की मां ने 15 सितंबर को उसे उसके साथ उसकी बहन के घर बदरपुर चलने की बात कही थी, लेकिन इसकी बजाय वह उसे निजामुद्दीन में एक होटल ले गयी।

डीसीडब्ल्यू ने बताया कि होटल में सौदा करने के बाद मां ने उसे कहा कि उसे कहीं जाना होगा और शाहिद नाम का कोई व्यक्ति उसे घर ले आयेगा। लेकिन शाहिद उसे बवाना गांव में ईश्वर कॉलोनी स्थित अपने घर ले गया। शाहिद के घर पर मौजूद अन्य लड़कियों ने उसे शादी का जोड़ा पहनकर तैयार होने को कहा।

यह भी पढ़ें :

सबके जाने का इंतजार करती थी टीचर, स्कूल ग्राउंड में छात्र के साथ बनाती थी रिलेशन

पहले करता था मसाज, सो जाने पर बच्चियों से करता था रेप, बैग से मिले 650 अश्लील वीडियो

उन्होंने लड़की को बताया कि उसकी मां ने उसे एक लाख रुपये में बेच दिया है। इसके अनुसार हालांकि एक दिन के अंदर ही वह किसी तरह शाहिद के घर से भागने में सफल रही और बवाना में अपने घर पहुंचकर पड़ोसियों से मदद मांगी, जिन्होंने दिल्ली महिला आयोग को फोन किया।

लड़की अपनी मां, सौतेले पिता और चार भाई-बहनों के साथ रहती थी। उन्होंने बताया कि इस संबंध में पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है लेकिन अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है और लड़की को आश्रय गृह भेज दिया गया है।