गोरखपुर : चौरी- चौरा थाना इलाके के भोंपा बाजार से एक युवती की किडनैपिंग कर हत्या मामले में नया खुलासा हुआ है। पुलिस ने बताया कि युवती काजल के घर से भागने की कहानी किसी फिल्मी स्क्रिप्ट से कम नहीं थी। काजल आगरा में रहने वाले प्रेमी के साथ रहना चाहती थी। इस वजह से उसने यह साजिश रची थी। पुलिस ने प्रेमी और प्रेमिका को गिरफ्तार करके पुलिस ने जेल भेज दिया।

यू ट्यूब से सीखा था नकली खून बनाने का तरीका

काजल के प्रेमी हरिमोहन ने यू ट्यूब से नकली खून बनाने का तरीका सीख ग्लिसरीन व लाल रंग मिलाकर नकली खून तैयार किया था। सीओ सुमित शुक्ला ने खुलासा किया इसके आधार पर उसने हत्या की झूठी तस्वीर भेजकर भ्रम फैलाया था। काजल के प्रेमी हरिमोहन ने पुलिस को बताया कि जब दोनों ने घर से भागने और उसे हत्या में तब्दील कर देने का प्लान बनाया तब वह यू-ट्यूब के जरिए नकली खून बनाने का तरीका सीख लिया। यूट्यूब से ही पता चला कि ग्लिसरीन व लाल रंग को आपस में मिला दिया जाए तो वह खून जैसा दिखने लगता है। इसके बाद उसने काजल के ऊपर उड़ेलकर उसे हत्या का रंग देने की कोशिश की थी।

काजल ने अपने पिता को यह फोटो व्हाट्सऐप के जरिए भेजा था।
काजल ने अपने पिता को यह फोटो व्हाट्सऐप के जरिए भेजा था।

सिंगर एप से हुई दोस्ती और फिर प्यार

पुलिस के अनुसार अप्रैल, 2018 में सिंगर एप मेकर पर आगरा के हरिमोहन व काजल की मुलाकात हुई थी। दोनों एक दूसरे से लाइव बात करते-करते दोस्ती और फिर प्यार कर बैठे। दिसम्बर 2018 में उनकी पहली मुलाकात हुई। हरिमोहन उससे मिलने गोरखपुर आया था। मुलाकात कर वह लौट गया। छह मार्च 2019 को वह दोबारा आया था। दूसरी मुलाकात में उसने उसे एक मोबाइल फोन और सिम दिया था। वह दस सितम्बर को फिर गोरखपुर आया और उसे लेकर फरार हो गया। हरिमोहन बीटेक है और एक कोचिंग सेंटर में पढ़ाता है।

फिल्म की स्क्रिप्ट से कम नहीं थी भागने की स्टोरी

युवती काजल के घर से भागने की कहानी किसी फिल्म की स्क्रिप्ट से कम नहीं थी। सीओ के मुताबिक 10 सितम्बर मोहर्रम के दिन काजल घर से निकली और बताया कि वह जिस ऑफिस में काम करती है वहां विवाद चल रहा है अपना हिसाब करने जा रही है। घर से सारे सामान मार्कशीट व अन्य दस्तावेज भी साथ ले ली। भोपा बाजार में उसका प्रेमी हरिमोहन उसे मिला और दोनों ऑटो से कुसुम्ही जंगल के वनसप्ती पहुंचे।

जंगल में काजल ने फिल्मी स्टाइल में मौत होने की फोटो बनाई इसके लिए उन्होंने एक खास केमिकल का इस्तेमाल किया ताकि असली खून जैसा लगे। बाद में पिता के मोबाइल पर तस्वीर भेजने के साथ ही मैसेज भी भेज दिया जिसमें मौत की बात लिखी थी। युवती ने सिमकार्ड वहीं पर तोड़ दिया और फिर मोबाइल फेंक कर दोनों ऑटो से गोरखपुर पहुंचे। वहां विशाल मेगा मार्ट से कपड़े खरीदे और उसके बाद नौसढ़ पहुंच गए। वहां से प्राइवेट डिलक्स बस से आगरा निकल गए।

बहन के लिए मुखबिरी करता था फुफेरा भाई

सीओ ने बताया कि रुद्रपुर कोतवाली क्षेत्र के विक्रमपुर निवासी रजत मणि काजल का फुफेरा भाई है वह बहन के लिए मुखबिरी करता था। वह पुलिस की एक-एक गतिविधियों की जानकारी हासिल कर उन तक सूचना पहुंचा देता था। रजत मणि व काजल के परिवार के लोगों की मोबाइल के जरिए पुलिस टीम को इसकी जानकारी मिलती रहती थी।

एक दिन लेट होती पुलिस तो हो जाता कोर्ट मैरिज

काजल अपने प्रेमी हरिमोहन के साथ कोर्ट मैरिज करना चाहती थी। इसलिए अपने बैग में सभी प्रमाणपत्र, आधार कार्ड व अन्य कागजात लेकर घर से निकली थी। घटना के बाद हरिमोहन पहले उसे आगरा के खन्दौली क्षेत्र के पलटू की प्याऊ निवासी स्थित अपने घर ले गया। उसके बाद पुलिस द्वारा उसकी तलाश करने की सूचना मिली तो वह फिरोजाबाद में एक किराए का मकान लेकर रहने लगा। किराए के मकान को भी पुलिस ने ट्रेस कर लिया और जब फिरोजाबाद पुलिस पहुंची तो उससे थोड़ी देर पहले फुफेरे भाई की सूचना पर वे दोनों वहां से निकल गए।