लखनऊ : उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले के एक ठुकराए हुए प्रेमी ने 17 साल की एक किशोरी को आग के हवाले कर दिया। पुलिस ने शुक्रवार को बताया कि लखनऊ के सिविल अस्पताल में पीड़िता ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

संध्या आग के चलते 75 फीसदी झुलस गई, जिसके बाद गुरुवार को उसे लखनऊ के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 22 वर्षीय आरोपी गोलू को गिरफ्तार कर लिया गया है।

घटना बुधवार की है, गोलू हाजीपुर गांव में स्थित संध्या के घर में घुस गया। वारदात के वक्त संध्या के माता-पिता घर पर नहीं थे। गोलू ने उस पर मिट्टी का तेल डाला और उसे आग के हवाले कर दिया।

पीड़िता के पिता रमेश ने पुलिस को बताया कि संध्या की छोटी बहन दूसरे कमरे में थी, दीदी की चीख-पुकार सुनकर वह दौड़कर कमरे में गई और आग की लपटों को बुझाने की कोशिश करने लगी।

संध्या ने मरने से पहले अपने बयान में कहा कि उसने गोलू द्वारा परेशान किए जाने के बारे में पुलिस से शिकायत की थी, लेकिन पुलिस ने उसकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की।

उसने अस्पताल में पत्रकारों से कहा कि वारदात के समय वह टीवी देख रही थी, तभी गोलू वहां आया और उसने उस पर मिट्टी का तेल डाला और उस पर आग लगा दी।

इसे भी पढ़ें:

नाबालिग भाइयों ने 6 साल की मासूम से किया रेप, इस तरह लगाया लाश को ठिकाने

संध्या ने कहा कि इससे पहले गोलू ने उसका अपहरण करने की कोशिश की थी, जिसे लेकर उसके माता-पिता ने मंगलवार को पुलिस से शिकायत की, लेकिन पुलिस ने इसे गंभीरता से नहीं लिया।

पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और एडीजी (लखनऊ जोन) ने घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं।एसएचओ अंबर सिंह ने कहा, "संध्या के बयान के आधार पर उसी गांव के गोलू के खिलाफ संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।"