लखनऊ : उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से एक रिश्तों को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है, यहां एक बाप ने हैवानियत की सारी हद पार करते हुए दो बेटियों के साथ घिनौनी वारदात को अंजाम दिया। एक वहशी बाप अपनी बेटियों के साथ 15 साल तक दुष्कर्म करता रहा। मामले का खुलासा तब हुआ जब बड़ी बेटी ने पत्र लिखकर 181 आशा ज्योति केंद्र से बहनों को हैवान पिता के चंगुल से बचाने की गुहार लगाई।

पत्र मिलने के बाद आशा ज्योति केंद्र की टीम ने रविवार देर शाम दोनों बच्चियों को उनके घर से छुड़ा लिया और बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) के सामने पेश किया, जिसके बाद समिति की शिकायत पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया। आरोपी के खिलाफ लखनऊ के चिनहट थाने में मुकदमा दर्ज किया गया। फिलहाल आरोपी पिता फरार है। लेकिन देर रात तक पुलिस दबिश देती रही।

मिली जानकारी के मुताबिक, पीड़ित बच्चियों का पिता ठेकेदारी करता है। बड़ी बेटी की उम्र 22 साल है और वह ग्रेजुएशन कर रही है। दूसरी की उम्र 15 साल है। पुलिस ने वहशी पिता के खिलाफ पोक्सो के तहत मामला दर्ज किया है।

इसे भी पढ़ें :

महिला से कार में छह घंटे तक किया दुष्कर्म, फिर सड़क पर फेंक फरार हुए आरोपी

कार सवार बदमाशों ने लड़की से किया गैंगरेप, पार्क में फेंककर हुए फरार

आशा ज्योति केंद्र की ऑफिसर अर्चना सिंह के अनुसार, बड़ी बेटी ने 11 अगस्त 2019 को केंद्र को पत्र लिखकर बताया था कि जब वह छह साल की थी तभी से पिता उसके साथ गंदी हरकतें करने लगा था। खास बात है कि यह सबकुछ मां की आंखों के सामने होता रहा, लेकिन वह खामोश रही। पिता की इस हरकत से बड़ी लड़की 5-6 बार गर्भवती भी हुई लेकिन मां हर बार गोली देकर मुंह बंद रखने की धमकी देती थी।

डीपीओ सुधाकर शरण पांडेय ने बताया कि रेस्क्यू कराई गई लड़कियों के बयान के आधार पर पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज करने की सूचना संबंधित थाने को दी जा चुकी है। प्रभारी निरीक्षक चिनहट सचिन कुमार सिंह के मुताबिक, आरोपी पिता के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

पीडित लड़की के अनुसार, इसकी शिकायत ननिहाल में भी की, लेकिन सभी ने बदनामी का डर दिखाकर चुप करा दिया। पड़ोस में रहने वाली एक महिला ने हमें आवाज उठाने की हिम्मत दी पर कोई सहारा न मिलने पर हम चुप रहीं। आशा ज्योति केंद्र की प्रभारी अर्चना सिंह के मुताबिक, कवच कार्यक्रम के दौरान हम लोग एक स्कूल में पहुंचे थे, तब पीड़ित बड़ी बहन ने हमसे अपनी समस्या बताई थी। उसके बाद हमें पत्र लिख कर खुद को छोटी बहन को न्याय दिलाने की गुहार लगाई थी।