विजयवाड़ा : आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में अवैध संबंधों हत्या करने का सिलसिल जारी है। इसी क्रम में आंध्र प्रदेश में रविवार रात को एक और घटना प्रकाश में आई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, चित्तूर जिले के चित्तपारा पंचायत क्षेत्र के धर्मराजुलापुरम गांव में रामदास अपनी पत्नी मोगिलम्मा के साथ रहता था। मोगिलम्मा का इसी गांव के उमापति (26) के साथ कुछ समय से अवैध संबंध चल रहा था। इसी बीच मोगिलम्मा ने बिना पति को मालूम किये उमापति को चार लाख रुपये और कुछ सोना भी कर्ज के रूप में दिया। जब रामदास ने पैसे और सोना के बारे में पूछा तो सच्चाई का पता चला। रामदास ने उमापति को दिये हुए चार लाख रुपये और सोना ले आने का पत्नी पर दबाव डाल रहा था।

इसी क्रम में शनिवार रात को मोगिलम्मा ने अपने प्रेमी उमापति को घर पर बुला लिया। दोनों ने रामदास को उनके अवैध संबंध में आड़े मानकर चाकू से गला काटकर हत्या कर दी। इस दौरान मोगिलम्मा ने पति के पैर पकड़कर रखी और उमापति ने उसके हाथों को रस्सी से बांधकर चाकू से गला काट दिया। हत्या के बाद मोगिलम्मा ने प्रेमी उमापति को चित्तपारा चले जाने को कहा। अस सुबह उठकर चिखने चिल्लाने लगी।

यह भी पढ़ें :

हॉस्टल में रह रही 15 साल की लड़की से 65 साल के वृद्ध ने किया दुष्कर्म, एक दिन ऐसे खुला राज

स्थानीय लोगों ने इस घटना के बारे में पुलिस को खबर की। सीआई लक्ष्मीकांत रेड्डी और एसआई शेख शाह मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए चित्तूर अस्पताल को भेज दिया। पुलिस ने घटना के बारे में मोगिलम्मा पूछा तो उसके बयान पर संदेह हुआ। इसके चलते पुलिस ने दोनों को हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर सच्चाई का खुलासा हुआ।

पुलिस ने यह भी बताया कि मोगिलम्मा को इससे पहले भी इस गांव के एक व्यक्ति के साथ काणिपाका लॉज में पकड़ी गई थी। तब मोगिलम्मा शराब का कारोबार करती थी।