मेरठ : अब ऑनलाइन शॉपिंग की तरह ही ऑनलाइन देह व्‍यापार का काम भी रफ्तार पकड़ रहा है। ताजा मामला उत्‍तर प्रदेश के मेरठ शहर का है। यहां ऑनलाइन देह व्‍यापार का काम पांव पसार रहा है। मेरठ में शास्त्रीनगर और नैयर पैलेस के बाद अब शहर की पॉश कॉलोनी में सेक्स रैकेट का खुलासा हुआ है। पुलिस ने दो कमरों से कई महिला और युवकों को आपत्तिजनक हालत में दबोचा है।

इस मामले में एएचटीयू की टीम ने तीन महिलाओं समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि यह गिरोह जगह बदल-बदलकर देह व्यापार कर रहा था।

मिली जानकारी के अनुसार, सूचना के आधार पर मंगलवार दोपहर सीओ सदर देहात अखिलेश भदौरिया के निर्देशन में एएचटीयू के प्रभारी बृजेश सिंह ने गंगानगर की एक पॉश कॉलोनी के मकान पर छापा मारा। पुलिस ने दो महिलाओं व एक पुरुष को एक कमरे से तो दूसरे कमरे से एक युवक व एक महिला को आपत्तिजनक स्थिति में पकड़ा है।

तलाशी के दौरान कमरों से आपत्तिजनक सामान बरामद हुआ। पूछताछ में दोनों आरोपियों ने अपने नाम नरेश पुत्र रूप सिंह निवासी फलावदा और जोगेंद्र पुत्र नत्थूलाल निवासी बरेली बताए। नरेश इस गिरोह का सहयोगी है जो ग्राहक जोगेंद्र को यहां लेकर आया था।

पुलिस ने बताया कि एएचटीयू को पहले कसेरूखेड़ा क्षेत्र में किराए के मकान में देह व्यापार की खबर थी, लेकिन बाद में पता चला कि यहां से कमरा खाली कर गंगानगर में लिया गया है। यहां लड़कियों के फोटो मोबाइल पर भेजे जाते थे। जिसको लेकर गंगानगर में इस गिरोह से कई युवक जुड़े थे। शहर के पॉश इलाकों में ये गिरोह फैला हुआ है।

इसे भी पढ़ें :

घर पर ताला लगाकर अंदर होता था ये गंदा काम, ऐसे हुआ खुलासा

गैंगस्टर से शादी करने वाली लेडी कॉन्स्टेबल का सच आया सामने, पुलिस के उड़े होश

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, जिस मकान में यह छापा मारा गया, उस मकान में 10 माह का बच्चा पुलिस के हाथ लगा। महिलाओं से जब उसके बारे में पूछा गया तो तीनों महिलाएं उसे अपना बताने लगीं। मौके पर जुटे ने कहा कि उन्हें कई बार शक भी हुआ लेकिन बच्चा साथ होने के कारण वह हर बार इन महिलाओं को नजरअंदाज करते रहे। पुलिस के मुताबिक यह महिलाएं बच्चा इसीलिए साथ रखतीं थीं, ताकि किसी को शक न हो।

पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि कुछ समय से देह व्यापार पर शहर में सख्ती बढ़ी है। पुलिस ने कई जगह छापेमारी की और काफी लोगों को जेल भेजा। इसलिए वे एक स्थान पर किराए पर ज्यादा दिन नहीं रहते थे। वैसे भी मकान मालिक को पैसे से मतलब होता था इसलिए वह पूरा पैसा देकर चलाते थे।