नई दिल्ली: कुछ दिन पहले एक महिला पुलिस कॉन्स्टेबल द्वारा गैंगस्टर से शादी करने करने के मामले में नया खुलासा हुआ है। इस मामले के जांच में जो तथ्य सामने आया उसके बाद पुलिस के होश उड़ गए। आपको बता दें कि राजधानी दिल्ली से सटे नोएडा में कथित महिला पुलिस कॉन्स्टेबल के गैंगस्टर से शादी करने के मामले नोएडा पुलिस की किरकिरी हुई थी। फिर नोएडा पुलिस ने इस मामले में पुलिस ने जांच के आदेश दिए थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अनिल दुजाना गिरोह का शार्प शूटर राहुल जब जेल में बंद था तो ये कथित महिला पुलिसकर्मी की ड्यूटी बंदी गृह में थी, इस दौरान दोनों एक-दूसरे के नजदीक आए और गैंगस्टर के जेल से रिहा होते ही दोनों ने शादी रचा ली थी। इस मामले में आईजी ने जांच के आदेश दिए थे।

पायल नाम की कथित महिला पुलिसकर्मी जिसके ग्रेटर नोएडा में पोस्टेड होने का दावा किया जा रहा था, वह कभी पुलिस में रही ही नहीं। पुलिस की जांच में सनसनीखेज खुलासा हुआ कि पायल करीब 7 साल से पुलिस की वर्दी पहनकर अपने परिवार और गांव वालों पर रौब दिखाती है।

पुलिस की वर्दी में ठगी

पुलिस को एक और जानकारी हाथ लगी है कि मेरठ के मवाना के गांव तिगरी की रहने वाली पायल ने पुलिस की वर्दी में कई लोगों को ठगा है, यहां तक कि उसने पुलिसवालों को भी नहीं छोड़ा है। जब पुलिस पायल के गांव पहुंची तो वहां ग्रामीणों ने जो कुछ बताया, उसे सुनकर पुलिस के होश उड़ गए। जबकि ये भी जानकारी हाथ लगी है कि पायल की 8 साल पहले शादी हो चुकी है और उसका एक बेटा भी है।

इसे भी पढ़ें :

जब लेडी कॉन्स्टेबल ने की गैंगस्टर से शादी, पढ़ें दोनों की दिलचस्प लवस्टोरी

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल का भाई

मिली जानकारी के मुताबिक, पायल का एक भाई नोएडा जेल में बंद था जिससे मिलने वह अक्सर जाया करती थी, यहीं पर उसकी मुलाकात अनिल दुजाना गिरोह के शूटर राहुल ठसराना से हुई। दनकौर में व्यापारी मनमोहन हत्याकांड के बाद पुलिस ने अनिल दुजाना गिरोह के बदमाशों को गिरफ्तार किया था, इनमें शार्प शूटर राहुल भी था। राहुल पर पांच हजार का इनाम भी था। राहुल से शादी करने के बाद ही वह सुर्खियों में आई, उसकी वर्दी पहने कई तस्वीरें सोशल मीडिया में वायरल हो रही हैं।

जब पुलिस को पायल की असलियत सामने आई तो उसकी तलाश की जाने लगी है, पर अभी तक पुलिस को पायल के ठिकाने के बारे में जानकारी हाथ नहीं लगी है। इसके पहले, शुरुआती जांच में पुलिस का दावा था कि वह नोएडा में तैनात नहीं है।