बाड़मेर : राजस्थान के बाड़मेर जिले के माला बस्ती गांव के प्रभु सुसाइड केस में 26 दिन बाद चौंका देने वाला खुलासा हुआ है। घटना के खुलासे के बाद लोगों के होश पाख्ता हो गए। मिल रही जानकारी के मुताबिक 13 जुलाई की रात प्रभु बाइक पर अपनी बिनब्याही प्रेमिका को लेकर गांव आ रहा था। रास्ते में 3 युवकों ने उस पर तलवार से अटैक कर दिया। वह बेहोश हुआ तो तीनों उसकी प्रेमिका को उठा ले गए इसके बाद दो और साथियों को बुलाकर पूरी रात उससे दुष्कर्म किया।

क्या हुआ था उस रात

विक्टिम लड़की के मुताबिक 13 जुलाई को वह प्रभु के साथ गांव जा रही थी। इस दौरान रास्ते में नशे में धुत और हथियार लेकर बैठे सुनील, विकास और जितेंद्र नाम के वहशी दरिंदो ने प्रभु पर तलवार से हमला कर दिया। इसके बाद वह बेहोश हो गया। उसके बेहोश होती तीनों बदमाश प्रभु की प्रेमिका को उठाकर अपने साथ ले गए। पहले तो उन्होंने उसे उदपुरा के बस स्टैंड के सामने सूनसान जगह पर ले जाकर गैंगरेप किया। इसके बाद निचला घंटाला इलाके में लाए यहां उन तीनों ने नरेश और विजय नाम के अपने दो और दोस्तों को बुला लिया। इसके बाद पांचो ने सुबह करीब 4 बजे तक शराब के नशे में 11 बार गैंगरैप किया। दुष्कर्म के बाद बदमाश उसे गांव छोड़ गए।

उधर, प्रभु को होश आया तो लहूलुहान हालत में घर पहुंचा और घरवालों से बिना कुछ बताए घलकिया गांव की तरफ जाकर पेड़ पर फंदा लगाकर जान दे दी।

पुलिस ने जब आरोपियों से आरोपियों से पूछताछ की तो सुनील और विकास वारदात वाले दिन जिस बाइक पर घूमे वह विनोद के साथ मिलकर परतापुर में एक नर्सरी से चुराई था।