जालंधर : जालंधर के खुशीपुर गांव की रहने वाली हरप्रीत कौर मर्डर मामले में नया खुलासा हुआ है। दरअसल हरप्रीत कौर के हत्यारे को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मर्डर की यह घटना 28 मई की है। उस दिन खुशीपुर अड्‌डे पर महिला का संदिग्ध हालत में शव मिला था। मृतका की मां ने इस मामले में बाद में कंप्लेन दर्ज करवाई थी। पुलिस ने जांच की तो मामला मर्डर का मिला। जांच होने पर पुलिस ने धर्मेंद्र सिंह को गिरफ्तार कर लिया है।

क्या है मामला

मिली जानकारी के अनुसार हरप्रीत कौर का हत्यारा उसका मुहबोला भाई धर्मेंद्र सिंह निकला। धर्मेंद्र ने हरप्रीत कौर को पहले बहन बनाया और फिर राखी भी बंधवाई। यही नहीं उसी बहन को प्रपोज कर बैठा। हरप्रीत जब उसके इस बात का विरोध किया तो उसे नशे का ओवरडोज देकर मार डाला।

12 साल पहले हुई थी हरप्रीत की शादी

शाहपुर के रहने वाले गुरमीत कौर गोराया ने बताया कि उनकी बेटी हरप्रीत कौर (30) की शादी 12 साल पहले गांव चुंगवां के व्यक्ति से हुई थी। उसके तीन बच्चे हैं। 3 साल पहले हरप्रीत के कलानौर के व्यक्ति के साथ रहने लगी। गांव सरजेचक के धर्मेंद्र सिंह को हरप्रीत भाई मानती थी। राखी भी बांध चुकी थी। धर्मेंद्र हरप्रीत कौर के घर आने-जाने लगा।

क्या थी हरप्रीत के हत्या की वजह

हरप्रीत के घरवालों की मानें तो उन्हें हरप्रीत के मर्डर के एक दिन बाद उसके मौत की खबर मिली थी। मृतक हरप्रीके माता - पिता को शुरू से इस बात का शक था कि उसकी मौत नैचुरल नहीं है बल्कि उसकी हत्या की गई है। हलांकि उन्होंने इसलिए कोई शिकायत नहीं करवाई की किसी बेकसूर पर कार्रवाई न हो जाए। बाद में उन्हें पता चल गया था कि हरप्रीत को नशा देकर धर्मेंद्र ने ही मारा है, क्योंकि वह हरप्रीत से शादी न होने पर खफा था।

इसे भी पढ़ें पंजाब के जालंधर में परिवार को जिंदा जलाया, दो बच्चों समेत 3 की मौत

आरोपी ने कहा था शादी नहीं कराई अब रोओगे तुम

दरअसल मई में हरप्रीत की शादी उसके परिवारवालों ने दूसरे व्यक्ति से तय कर दी थी। धर्मेंद्र उनके इस बात से नाराज हो गया था। हरप्रीत के पहले से शादीशुदा होने के बावजूद धर्मेंद्र घर भी पहुंचा था। इस दौरान धर्मेंद्र हरप्रीत कौर को कहने लगा कि वह अपने पति को छोड़ दे और उससे शादी कर ले। लेकिन घरवाले नहीं माने। जिस कारण अपनी बात न पूरी होने पर धर्मेंद्र ने हरप्रीत के घरवालों को धमकी दी कि उन्होंने हरप्रीत की शादी उससे न करवाकर गलत किया है। वह अब उन्हें रोने के लिए मजबूर कर देगा।

हरप्रीत की मां गुरमीत कौर ने बताया कि यह वाकया होने के कुछ दिनों के बाद हरप्रीत कौर किसी काम के लिए दिल्ली गई हुई थी। धर्मेंद्र को इस बात का पता था, जिसने फोन करके हरप्रीत कौर को अमृतसर बुला लिया। हरप्रीत को ओवरडोज देकर मार दिया।