विजयवाड़ा : आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले में एक ही दिन में दो वारदातें घटी। पहली घटना में दो प्रेमियों ने कीटनाशक पीकर आत्महत्या कर ली। जबकि दूसरी घटना में एक युवक की प्रेमिका के परिजनों ने निर्ममतापूर्वक हत्या कर दी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, जिले के याडिकी मंडल के नगरुर गांव निवासी विनोद और सुचरिता के बीच कुछ समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों ने शादी करने का फैसला लिया। मगर दोनों के परिजन उनकी शादी के लिए राजी नहीं हुए।

इसके चलते इस दुखी प्रेमी जोड़े ने शनिवार रात को कीटनाशक पीकर आत्महत्या कर ली। दोनों के परिजनों के आंसू फिलहाल थम नहीं रहे हैं। दोनों की आत्महत्या से पूरे गांव में शोक की लहर छा गई है।

आंध्र प्रदेश में हॉरर किलिंग : गर्भवती बेटी की परिजनों ने की हत्या

कांसेप्ट फोटो
कांसेप्ट फोटो

दूसरी ओर इसी जिले के कंबदूरु गांव में रवि (20) और उसी गांव की एक लड़की के बीच प्रम प्रसंग चल रहा था। लड़की के परिजनों को यह पसंद नहीं था। उन्होंने रवि को लड़की से दूर रहने की चेतावनी भी दी।

रवि नहीं माना और वह प्रेमिका से मिलता रहा। यह देख लड़की के परिजनों ने शनिवार की रात धारदार हथियारों से उसकी हत्या कर दी। पुलिस दोनों मामले की छानबीन कर रही है। जिले में एक साथ हुए दो घटनाओं से सनसनी फैल गई है।

हॉरर किलिंग

इससे पहले गत 29 जून को आंध्र प्रदेश में एक हॉरर किलिंग की घटना प्रकाश में आई थी। एक प्रसूता की उसके माता-पिता और भाई-बहन ने मिलकर हत्या कर दी थी। बाद में शव को एक कुएं में फेंक दिया। इसके बाद आत्महत्या किये जाने का नाटक रचा। यह घटना चित्तुर जिले के ऊसरपेंटा गांव में घटी।

सीआई ईद्रु बाशा के अनुसार, ऊसरपेंटा गांव में 40 परिवार रहते हैं। इनमें 10 परिवार सवर्ण जाति के हैं। जबकि 30 परिवार एससी-एसटी परिवार के रहते हैं। गांव के भास्कर नायडू और गोविंदय्या के खेत आस-पास में है।

भास्कर नायडू की बेटी हेमावती (23) और गोविंदय्या के बेटे केशव (25) के बीच तीन साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों ने शादी करने का फैसला किया। मगर हेमलता के परिवार वालों ने शादी का विरोध किया। इस बात को लेकर दोनों परिवार में झगड़ा हुआ। मामला पुलिस तक जा पहुंचा। हेमलता के खुद मेजर होने के कारण पुलिस ने किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की।

इसी क्रम में दोनों प्रेमियों ने कुप्पम में एक मंदिर में जाकर शादी कर ली। इसके बाद दोनों तिरुपति में रहने लगे। केशव नें रोज मजदूरी करके हेमलता को बीटेक तक पढ़ाया। इसी दौरान गर्भवती पत्नी को प्रसव के लिए पलमनेरु एरिया अस्पताल में भर्ती करवाया। सात दिन पहले उसने बाल शिशु को जन्म दिया। केशन दो दिन पहले हेमलता और बेटे को लेकर गांव आया। यह बात हेमलता के परिवार को मालूम हुई।

यह भी पढ़ें :

झारखंड में जादू-टोना के आरोप में मां-बेटी की पीट-पीटकर हत्या

शुक्रवार को चिकित्सा जांच के लिए केशव ने पत्नी और बेटे को पलमनेरु में एक निजी अस्पताल ले गया। वापस आते समय हेमलता के परिवार वालों ने गांव के सीमा पर उन्हें रोका और हथियार दिखाकर हेमलता और उसके बेटे को अपने घर की ओर ले गये। केशव ने खतरा महसूस किया और इस घटना को सेलफोन में रिकार्ड किया। इसके बाद उसने पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस तुरंत मौके पर पहुंची।

इससे पहले पूर्व नियोजित योजना के अनुसार हेमलता के पिता भास्कर नायडू, मां वरलक्ष्मी, भाई भानु प्रकाश, चरण और निखिला ने हेमलता को गले में रस्सी से रेंद कर हत्या कर दी। इसके बाद शव को कुएं फेंक दिया। बाद में बेटी ने आत्महत्या किये जाने का नाटक रचाा। इसी दौरान पुलिस और स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे। उन्होंने देखा कि हेमलता का शव कुएं में पड़ा है। घटना के बाद सभी आरोपी गांव के पास जंगल में फरार हो गये।

दूसरी ओर केशव के परिवार वालों ने हेमलता के माता-पिता के मकान को ध्वस्त किया। एक बाइक को आग लगा दी। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।