लखीमपुर: जघन्यतम अपराधों की फेहरिस्त में असम के लखीमपुर में जो हुआ। उसे सुनकर लोगों का मुंह खुला का खुला रह गया। पति के वहशीपन से परेशान महिला ने उसका सिर धड़ से अलग कर दिया। इसके बाद वो खुद उसका कटा हुआ सिर लेकर थाने पहुंच गई। महिला ने अपना गुनाह कुबूल कर लिया है। इस हिला देने वाली घटना के पीछे की पूरी कहानी जानकर आप भी चौंके बिना नहीं रह सकेंगे।

बताया जाता है कि 48 वर्षीय गुणेश्वरी बरकटकी अपने पति मुधिराम (55 वर्ष) की हरकतों से बेहद परेशान थी। मुधिराम आए दिन पत्नी से मारपीट करता था। उसकी बुरी आदतों से पत्नी गुणेश्वरी आजिज आ चुकी थी।

यह भी पढ़ें:

पत्नी और चार महीने के बेटे को जिन्दा जलाकर पहुंचा थाने

आखिरकार पत्नी के सब्र का बांध टूटा और उसने धारदार हथियार से पति की गर्दन काट दी। पत्नी गुणेश्वरी को पता था कि उसने जघन्यतम अपराध किया है। वो नहीं चाहती थी कि वो इस अपराध से मुंह छिपाकर बच निकले। लिहाजा उसने हिम्मत दिखाते हुए पुलिस के आगे अपना गुनाह कुबूल कर लिया।

गुणेश्वरी जब पति का कटा सिर लेकर थाने पहुंची तो वहां तैनात पुलिसकर्मियों में हड़कंप मच गया। सभी पुलिसकर्मी उसे दुर्दांत अपराधी मानकर सतर्क हो गए। जैसे ही गुणेश्वरी ने अपना गुनाह कुबूल किया और अपनी आपबीती बताई तो पुलिस वालों ने उसके साथ अच्छा बर्ताव करना शुरू कर दिया। हालांकि आवेश में की गई इस हत्या के लिए गुणेश्वरी को माफ नहीं किया जा सकता है। अदालत उसे उसके किए कि उचित सजा देगी।

गुणेश्वरी ने पुलिस को बताई आपबीती में कहा कि वो कई बार अपने पति से अलग होने का प्रयास करती रही। लेकिन बच्चों का मुंह देखकर वो ऐसा कर नहीं पाई। पति से छुटकारा पाने के लिए पहले भी उसने मुधिराम पर जानलेवा हमला किया था। हर बार वो बच निकलता था। इस बार गुणेश्वरी का वार कारगर रहा और मुधिराम स्वर्ग सिधार गए।

पुलिस ने गुणेश्वरी की निशानदेही पर मृतक का धड़ मौके से बरामद कर लिया है। कोर्ट में पेशी के बाद आरोपी महिला को जेल भेज दिया गया है।