लखनऊ : कहते हैं कि जब इश्क का भूत नौजवानों के सिर चढ़ता है तो कुछ भला बुरा समझ में नहीं आता है। उस समय प्रेमी प्रेमिका को केवल एक दूसरे की बातें अच्छी लगती हैं। समझाने बुझाने की कोशिश करने वाला हर कोई खलनायक नजर आता है। पर जब इसका परिणाम कुछ गलत होता है तो उनको अपनी गलती का एहसास होता है, लेकिन तब तक देर हो चुकी होती है।

एक ऐसा ही मामला उत्तर प्रदेश में मेरठ के कारोबारी की बेटी का अपहरण के बाद धर्म परिवर्तन और ब्रेन वॉश किया गया। इस काम को अंजाम देने के लिए पूरा गैंग काम कर रहा था। हालांकि इस मामले में पुलिस ने अभी तक 15 आरोपियों को चिन्हित किया है। प्रदेश में पूरे मामले को अति संवेदनशील बताते हुए एक रिपोर्ट आला अधिकारियों को भेजी है। शासन को भी रिपोर्ट गई है।

ऐसे की गयी कोशिश

किशोरी का फर्जी आधार कार्ड बनवाया गया और निकाह की रस्म पूरी कराई गई। इसी आधार पर कोर्ट मैरिज कराने का प्रयास किया जा रहा था। मेरठ से अपहरण के बाद देवबंद में धर्म परिवर्तन कराया गया और यहां से दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया गया।

बताया जा रहा है कि मेरठ के ब्रह्मपुरी निवासी कारोबारी की नाबालिग बेटी का चार मई को अपहरण कर लिया गया था। पुलिस ने छानबीन की तो खुलासा हुआ कि आमिर नामक युवक ने किशोरी से फेसबुक पर दोस्ती की, उसे प्रेम जाल में फंसाया और चार मई को लेकर फरार हो गया। युवती को लेकर वह देवबंद पहुंचा। यहां युवती का ब्रेन वॉश किया गया और धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाया गया। किशोरी को बताया गया कि अब उसे बुर्का पहनना है। किशोरी ने विरोध किया, लेकिन बार-बार उस पर दबाव बनाया और धर्म परिवर्तन कराकर सोनिया नाम दिया गया। इसी दौरान किशोरी का एक फर्जी आधार कार्ड भी बनाया गया।

इसे भी पढ़ें :

उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब का कहर, बाराबंकी में 10 लोगों की मौत

मददगार भी बने लोग

कहा जा रहा है कि किशोरी को लेकर आमिर मुंबई, बंगलुरू और कुछ अन्य जगहों पर घूमता रहा। इसके खर्चे के लिए देवबंद के ही लोगों ने आमिर को पैसा दिया था। मुंबई में भी कुछ लोगों ने आमिर की मदद की।

प्रयागराज में हुए बरामद

पुलिस ने बाद में प्रयागराज के होटल से किशोरी को बरामद कर लिया। इस मामले में पुलिस ने अभी तक 15 आरोपियों को चिह्नित किया है, जो धर्म परिवर्तन कराने में शामिल थे।पुलिस का कहना है कि किशोरी की बरामदगी के बाद उसे पुलिस ने महिला थाने भेजा था। यहां से पुलिस ने बयान कराए और कोर्ट में पेश किया है। मेडिकल के बाद कोर्ट के सामने भी बयान हुए हैं। किशोरी को लेकर फिलहाल परिजनों ने परिवार के हवाले करने की मांग की है।