हैदराबाद: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने इस्लामिक स्टेट के मॉड्यूल से जुड़े जनवरी 2016 के मामले में छापेमारी की। तीन ठिकानों पर कई घंटों की छापेमारी के बाद पुलिस ने चार संदिग्धों को हिरासत में लिया है। जिनसे सख्ती से पूछताछ जारी है।

हैदराबाद के किंग्स कॉलोनी स्थित मैलारदेवपल्ली में करीब छह घंटे का एनआईए का ऑपरेशन चला। इस दौरान एनआईए की टीम ने संदिग्धों को हिरासत में लिया।

एनआईए की मांग पर छापेमारी के दौरान साइबराबाद पुलिस के कई अधिकारी छापेमारी के दौरान मौजूद रहे। एनआईए की टीम दिल्ली से आई थी। साथ ही हैदराबाद के जिस इलाके में छापेमारी की गई वो सघन आबादी वाला इलाका है।

यह भी पढ़ें:

हिज्बुल प्रमुख के बेटे के घर पर एनआईए का छापा, आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त

साइबराबाद पुलिस के मुताबिक छापेमारी के दौरान वो बाहर से टीम को सपोर्ट कर रहे थे। जबकि एनआईए की कार्रवाई के दौरान संदिग्ध घरों के दरवाजे बंद कर खंगाले गए।

बताया जाता है कि एनआईए की टीम को कुछ इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स भी मिले हैं। साथ ही टीम ने कुछ लैपटॉप बरामद किया है, जिसे खंगाला जा रहा है।

एनआईए की ओ से आधिकारिक जानकारी के मुताबिक टीम को कुछ खुफिया जानकारियां मिली थी। उसी के आधार पर ये छापेमारी की गई है। जिसमें कुछ और अहम सुराग मिले हैं।

हैदराबाद में NIA ने पहले भी की है कार्रवाई

इससे पहले एनआईए ने अगस्त 2018 में कथित तौर पर आईएस के लिए काम करने वाले मोहम्मद अब्दुल्ला बासित और मोहम्मद अब्दुल कादीर को गिरफ्तार किया था। दोनों पर आरोप था कि ये भारतीय युवाओं को कट्टरपंथी बनाने के लिए प्रेरित कर रहे थे।

साइबराबाद पुलिस की ओर से आधिकारिक जानकारी के मुताबिक एनआईए की टीम आईएस के सऊदी मॉड्यूल की तलाश में हैदराबाद पहुंची थी। इस बारे में टीम को कामयाबी भी मिली है।