पटना: बिहार में एक बार फिर चुनावी हत्याओं की सिलसिला शुरू हो गया है। सीवान में सत्ताधारी जनता दल युनाइटेड के दिवंगत नेता सुरेंद्र पटेल के बेटे की अगवा करने के बाद हत्या कर दी गई। जिसके बाद से पूरे इलाके में सनसनी है।

बीती रात ही राहुल कुमार को बदमाश उठा ले गए थे। इसके बाद 50 लाख रुपए की फिरौती की डिमांड की गई। परिवारवाले कुछ समझ पाते इससे पहले ही आज सुबह राहुल की लाश मिली।

स्थानीय लोग इसे राजनीतिक हत्या करार दे रहे हैं। लिहाजा लोगों में जबरदस्त आक्रोश है। इसे देखते हुए पुलिस भी पूरी तरह सतर्क है।

सीवान के एएसपी केके मिश्रा के मुताबिक फिलहाल जिला पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। जिनसे कड़ी पूछताछ चल रही है।

यह भी पढ़ें:

बिहार के समस्तीपुर में राजद के बड़े नेता की गोली मारकर हत्या, हंगामा जारी

जनता दल (युनाइटेड) के पूर्व नेता दिवंगत सुरेंद्र सिंह पटेल और जिला पंचायत की पूर्व पार्षद सुनीता पटेल के अगवा पुत्र राहुल का शव मुफस्सिल थाना क्षेत्र से गुरुवार को बरामद किया गया है।

सीवान के पुलिस अधीक्षक नवीन चंद्र झा ने बताया कि अगवा छात्र राहुल का शव चौंवर क्षेत्र से बरामद किया गया है। राहुल की हत्या गला रेतकर की गई है। उन्होंने बताया कि आशंका व्यक्त की जा रही है कि अपहरणकर्ताओं ने डर के कारण राहुल की हत्या कर दी होगी।

उन्होंने बताया कि सुरेंद्र सिंह पटेल का बेटा राहुल केंद्रीय विद्यालय सीवान का छात्र था। बुधवार को अपहरणकर्ताओं ने राहुल का उस समय अपहरण कर लिया था, जब वह स्कूल से पढ़कर वापस अपने घर आ रहा था।

राहुल के परिजनों ने बताया कि अपहरणकर्ताओं ने फोन कर 50 लाख रुपये की फिरौती की मांग की थी, तब परिजनों द्वारा इसकी सूचना पुलिस को दी गई।

पुलिस अधीक्षक झा ने बताया, "जिस मोबाइल फोन से फिरौती की रकम मांगी गई थी, उसे बरामद कर लिया गया है तथा इस मामले में तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।"

जघन्य तरीके से हत्याकांड को दिया अंजाम

पुलिस ने आज सुबह एक तालाब से राहुल कुमार का शव बरामद किया। शव को देखने से पता चलता है कि बेहद जघन्य तरीके से राहुल की हत्या की गई है। राहुल की एक आंख फूटी हुई पाई गई। फिलहाल राहुल के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है।

राहुल के पिता की भी हुई थी हत्या

मृतक राहुल के पिता सुरेंद्र पटेल की भी साल 2006 में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। सुरेंद्र पटेल तब जदयू से जुड़े हुए थे और उनका इलाके में काफी सम्मान था। पेशे से सुरेंद्र पटेल सामाजिक कार्यों से भी जुड़े थे। वहीं राहुल के बारे में भी बताया जाता है कि उसका स्वभाव बेहद शांत था।