नंदीगाम: कोस्टल बैंक के डायरेक्टर एवं NRI चिगुरुपाटी जयराम की हत्या के मामले में लिप्त मुख्य आरोपी राकेश रेड्डी को कृष्णा जिला पुलिस ने मीडिया के सामने पेश किया। बताया गया कि रुपयों की वसूली के लिए राकेश ने जयराम का अपहरण किया और उस पर हमला किया। इस घटना में जयराम की मौत हैदराबाद में हुई। हत्या के बाद राकेश ने शव को हैदराबाद-विजयवाड़ा हाइ-वे पर कार के साथ छोड़ दिया और वह स्वयं बस से हैदराबाद आ गया।

घटनास्थल (फाइल फोटो)
घटनास्थल (फाइल फोटो)

पुलिस ने इस मामले में उसे सहयोग देने के आरोप में वॉचमेन को गिरफ्तार किया। पुलिस के समक्ष राकेश रेड्डी ने गुनाह कबूला है। पुलिस ने बताया कि इस मामले में शिखा चौधरी की कोई भूमिका नहीं है। उसके खिलाफ पुख्ता सबूत नहीं मिलने पर उसे इस मामले में लिप्त नहीं बताया गया। जिला पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस मामले को हैदराबाद पुलिस को सौंपने को लेकर कानूनी सलाह ली जाएगी।

शिखा चौधरी (फाइल फोटो)
शिखा चौधरी (फाइल फोटो)

इसे भी पढ़ें:

NRI जयराम हत्या मामला : मुख्य आरोपी राकेश रेड्डी का जीवन रहा ऐसा!

जांच के दौरान पता चला कि राकेश रेड्डी ने तेलंगाना के इब्राहिमपट्नम के ACP और नल्लाकुंटा के CI श्रीनिवास के साथ फोन पर बात की थी। पुलिस ने आरोपी ने जो कहा था, उसे ही दोहराया है। पुलिस ने अपनी जांच के माध्यम से पूरी जानकारी नहीं दी है। लोगों में चर्चा हो रही है कि पुलिस इस मामले में शिखा चौधरी और राकेश रेड्डी के संबंध के बारे में नहीं बता पाई। पुलिस शिखा चौधरी को परोक्ष रूप से इस मामले से परे करने का प्रयास कर रही है। वह इस बात का तकनीकी कारण नहीं बता सकी कि राकेश रेड्डी और शिखा चौधरी दुबई क्यों गये थे।