विजयवाडा/हैदराबाद : एनआरआई चिगुरुपाटी जयराम की हत्या को लेकर अनेक सनसनीखेज बातें सामने आ रही है। पता चला है कि आरोपी राकेश रेड्डी ने पुलिस की पूछताछ में जयराम की स्वयं हत्या करने की बात कबूला है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, राकेश रेड्डी ने पुलिस को बताया, "मेदक में जयराम को टेट्रान पालीलेंस कंपनी है। कंपनी में काम करने वालों वेतन भुगतान को लेकर झगड़ा चल रहा था। तब जयराम ने कर्मचारियों के वेतन देने के लिए 4.5 करोड़ रुपये लिये। उस समय जयराम की भांजी शिखा चौधरी के साथ मेरा परिचय हुआ। इसके बाद हमारा संबंध और मजबूत हो गया।”

राकेश ने बताया, “शिखा ने मुझसे शादी करने की बात मान ली। उसके लिए मैंने बहुत पैसा खर्च किया। मगर जयराम ने मुझसे कहा कि शिखा को छोड़ दें। मैंने जयराम के सामने मेरे दिये हुए 4.5 करोड़ रुपये और उस पर खर्च किये गये एक करोड़ रुपये लौटने पर शिखा को छोड़ देने का प्रस्ताव रखा। जयराम ने मेरे प्रस्ताव को मान लिया। मगर अब तक एक पैसा भी नहीं दिया।"

इसे भी पढ़ें:

जयराम की मौत का मामला ले रहा है नया मोड़, पुलिस थाने से शिखा की कार नदारद

जयराम चिगुरुपाटी की हत्या के आरोप में राकेश रेड्डी गिरफ्तार, नहीं हो रही है स्पष्टता

इसी क्रम में सूत्र ने आगे बताया है कि राकेश रेड्डी ने कहा, "गत 29 जनवरी को जयराम अमेरिका से लौट आने का पता चला। मैंने पैसे मांगने उसके पास गया। मगर जयराम पैसे नहीं दिया। इसके चलते मैंने उसका अपहरण करके एक होटल ले गया।”

आरोपी ने कहा, “31 जनवरी की रात को हमारे बीच झगड़ा हुआ। मैंने जयराम पर तीन मुक्के जड़ दिये। वह दिल का मरीज था। इससे जल्द ही मर गया। तब क्या किया जाए मुझे कुछ समझ में नहीं आया। जयराम के शव को कार में डालकर नंदीगाम ले गया और शव को सड़क किनारे फेंक दिया। वहां से मैं बस में हैदराबाद लौट आया।"