हैदराबाद : आंध्र प्रदेश में विपक्षी के दल के नेता और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष वाईएस जगन मोहन रेड्डी पर जानलेवा हमला करने वाले श्रीनिवास राव आवश्यकता पड़ी तो नार्को एनालिसिस के लिए भी तैयार है। श्रीनिवास के वकील सलीम ने शनिवार को मीडिया से यह बात कही। साथ ही सलीम ने यह भी बताया कि कोर्ट ने श्रीनिवास की पूछताछ अधिवक्ता (मेरे) सामने करने के आदेश दिये हैं।

आपको बता दें कि हाईकोर्ट के आदेश के बाद मामले की जांच करने के लिए एनआईए अधिकारियों ने आरोपी को सात दिन की हिरासत में ली है। इसके बाद आरोपी को विजयवाडा के सरकारी अस्पताल में स्वास्थ्य की जांच की गई। थोड़ी देर बाद डॉक्टरों ने स्वास्थ्य जांच की रिपोर्ट एनआईए को सौंपी। रिपोर्ट मिलने के बाद एनआईए अधिकारियों ने आरोपी को विशेष वाहन से हैदराबाद ले आई। मगर इसकी जानकारी गुप्त रखी गई।

इसे भी पढ़ें :

YS जगन हत्या प्रयास मामला NIA के हवाले, अधिवक्ता बोले- न्याय की बड़ी जीत

YS जगन हत्या प्रयास मामला : आरोपी को 7 दिन की NIA कस्टडी, वकील के सामने पूछताछ के आदेश

दूसरी ओर विशाखा पुलिस ने मीडिया को बताया कि शनिवार रात या रविवार सुबह आरोपी को विशाखा एअरपोर्ट ले आएंगे। इसी क्रम में आरोपी को देर रात तक विशाखा एअरपोर्ट लेकर आई। एनआईए अधिकारी टीडीपी नेता हर्षवर्धन चौधरी के फ्यूजन फूड्स रेस्टारेंट और वीआईपी लांज का निरीक्षण करेंगे। जहां पर वाईएस जगन पर जानलेवा हमला किया गया था। पता चला है कि आरोपी को गुप्त ठिकाने पर ले जाकर पूछताछ कर रही है।

इससे पहले आंध्र प्रदेश में विपक्षी के दल के नेता और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष वाईएस जगन मोहन रेड्डी पर जान लेवा हमला करने वाले आरोपी श्रीनिवास राव को सात दिन के लिए एनआईए की कस्टडी दी गई। एनआईए कोर्ट ने शुक्रवार को यह आदेश दिया। पता चला है कि इसके चलते देर रात एनआईए की टीम ने आरोपी को हिरासत में लेकर हैदराबाद स्थित एनआईए कार्यालय ले गई है।

हाईकोर्ट के आदेश के बाद इस मामले की जांच एनआईए कर रही है। इसी के अंतर्गत एनआईए अधिकारियों ने शुक्रवार को श्रीनिवास को भारी बंदोबस्त को बीच विशाखा जेल से विजयवाडा ले आई। इसके बाद विजयवाडा के मेट्रोपॉलिटन सेशन जज अच्युत पार्थसारथी के सामने पेश किया। कोर्ट ने आरोपी को आगामी 25 जनवरी तक न्यायिक हिरासत भेज दिया है।

इसके बाद आरोपी को जिला जेल को भेज दिया गया। मामले की जांच पड़ताल के लिए सप्ताह तक हिरासत में देने के लिए एनआईए के प्रमुख ने कोर्ट में याचिका दायर की। इसके चलते कोर्ट ने आरोपी को सात दिन के लिए एनआईए की कस्टडी देते हुए आदेश दिया। साथ ही कोर्ट ने तीन दिन में एक बार चिकित्सा जांच करने और उसके वकील के सामने पूछताछ करके के आदेश भी दिया है।