प्रेमिका की प्रेमी से फरियाद : मुझे भूल जाओ या मेरे बाप को मार दो

डिजाइन फोटो - Sakshi Samachar

शामली : आमतौर पर ऐसा फिल्मों में होता है कि प्रेमिका के कहने पर प्रेमी किसी को मारने लगता है या किसी जान ले लेता है। कुछ ऐसी ही कहानी उत्तर प्रदेश के शामली जिले में देखने को मिली है।

यहां एक प्रेमिका ने प्रेमी के साथ मिलकर अपने ही पिता की हत्या की साजिश रची थी। जिसके बाद प्रेमी ने अपने दोस्त के साथ मिलकर प्रेमिका के पिता की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने आरोपी बेटी और उसके प्रेमी सहित तीन को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस के मुताबिक, शामली जनपद के दसवीं क्लास में पढ़ने वाला समीर (काल्पनिक नाम) मोना (काल्पनिक नाम) का दीवाना था। पहले तो मोना (काल्पनिक नाम) उसे घास तक नहीं डाली। लेकिन किसी न किसी बहाने समीर उसकी नज़रों में आने की कोशिश करता रहा।

एक दिन समीर ने फेसबुक पर मोना को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजा और अगले दिन मोना ने फ्रेंड रिक्वेस्ट एकसेप्ट कर लिया। फेसबुक पर समीर, मोना के लिए अपनी अलग-अलग फोटो पोस्ट करने के अलावा और बहुत कुछ लिखता रहता था। इसी बीच दोनों में प्यार पनपने लगा और मुलाकातें होते रहीं। समीर हाजीपुर मोहल्ले में रहता था जबकि मोना दयानंद नगर में रहती थी।

इसे भी पढ़ें :

दिल्ली में महिला फैशन डिजाइनर व उनके नौकर की हत्या, तीन गिरफ्तार

एक दिन मोना ने समीर को ये बताया कि कैसे पिता राकेश उसे और उसकी मां के साथ मारपीट किया करता था। मोना ने समीर को अपने ज़ख्म भी दिखाए। मोना यह भी कहने लगी कि अब वह समीर से नहीं मिल पाएगी। जब समीर ने इसका कारण पूछा तो उसने कहा कि उस पर उसके पिता राकेश की नज़र रखती है।

राकेश को मोना का समीर से मिलना-जुलना पसंद नहीं था। मोना ने कहा कि समीर से मिलने पर पिता राकेश उसे बुरी तरह पीटता था। कभी बेल्ट से मारता था तो कभी उसके हाथ दांतों से काट लेता था। यह सब सुनकर समीर का खून खौल उठा था।

मोना ने आखिरकार एक दिन समीर से कह दिया कि अगर वह उससे शादी करना चाहता है तो उसे राकेश का खून करना पड़ेगा। यह सुनकर समीर चौंक गया। लेकिन मोना अपनी शर्त पर अड़ी रही। साथ ही साफ कह दिया कि अगर ऐसा नहीं कर सकते तो उसे भूल जायें।

इसे भी पढ़ें :

उत्तर प्रदेश में 13 साल की लड़की का अपहरण के बाद बलात्कार, मामला दर्ज

मोना को भूल जाना समीर के लिए मुमकिन नहीं था। मोना से शादी करना समीर का सपना था। इसलिए वह प्रेमिका की शर्त मानने को तैयार हो गया। इसके लिए समीर ने अपने दोस्त शादाब की मदद ली। शादाब और समीर एक दिन राकेश की हत्या कर देते हैं। इस हत्या के लिए जरूरी हथियार भी मोना ही मुहैया कराती है।

राकेश की हत्या करने के बाद दोनों वहां से भाग गए। लेकिन पुलिस ने शुरुआती तफ्तीश के बाद जब उस इलाके के सीसीटीवी फुटेज चेक किए तो फुटेज में दो लड़के राकेश का पीछा करते नज़र आए। बस, यहीं से पुलिस को शक हुआ और दोनों को तलाशकर गिरफ्तार कर लिया। जिसके बाद हत्या की ये कहानी सामने आई।

Advertisement
Back to Top