कानपुर: कानपुर में पुलिस अधीक्षक के दफ्तर में पहुंचकर एक बुजुर्ग दंपत्ति ने अपने दर्द की दास्तान सुनाई। तकलीफ देने वाला कोई गैर नहीं, बल्कि उनका सगा बेटा ही था। बूढ़े माँ-बाप ने बताया कि उन्हें चोकर की रोटी खाने को दी जाती है। अच्छा खाना मांगने पर गालियां देता है बेटा। जब बेटे ने मार पीट शुरू कर दिया तो बुजुर्ग दंपत्ति के पास पुलिस शिकायत के अलावा कोई चारा नहीं बचा।

बुजुर्ग दंपत्ति इतने कमजोर नजर आ रहे थे कि दास्तान सुनाते सुनाते कई बार वे बेहोश भी हो गए। 78 वर्षीय शिवप्रकाश शुक्ला ने जवानी के दिनों में खूब कमाया। उम्र ढली तो बेटे ने बहला फुसलाकर पैतृक और निजी संपत्ति अपने नाम करवा ली। जमीन जायदाद लिखवा लेने के बाद शुरु के कुछ दिनों तक तो बेटे का रवैया सही था। इसके बाद उसने मां बाप के साथ क्रूरतापूर्ण व्यवहार करना शुरू कर दिया।

यह भी पढ़ें:

कलयुगी बेटे की करतूत, छत से धक्का देकर अपनी मां का किया मर्डर

बुजुर्ग की दास्तान जिसने भी सुनी, उसने कलयुगी बेटे सुशील को भला बुरा कहा। लोगों ने मौके पर वृद्ध के आंसू पोंछे। फिर कानपुर साउथ एसपी रवीना त्यागी ने व्यक्तिगत रुचि लेकर दंपत्ति की बेटी को इत्तला किया। साथ ही गुजारिश की कि वो अपने मां-बाप को साथ रखें।

पुलिस ने आरोपी बेटे के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। साथ ही आरोपी सुशील की गिरफ्तारी के लिए टीम गठित की गई है। उत्पीड़न के मामले में दोष साबित होने पर बेटे को कड़ी सजा मिल सकती है।