तिरुपति (आंध्र प्रदेश) : प्रोफेसरों की प्रताड़ना के कारण ही डॉक्टर शिल्पा ने आत्महत्या की है। सीआईडी डीएसएपी अम्मिरेड्डी ने मीडिया को यह जानकारी दी। उन्होंने आगे बताया कि पिछले साल 7 अगस्त को शिल्पा ने अपने मकान में फांसी लगाकर आत्महत्या की थी। इस घटना के विरोध में डॉक्टर्स आंदोलन उतर आये थे। इसी क्रम में सरकार ने सीआईडी जांच के आदेश दिये। सीआईडी ने जांच पूरी करके अपने रिपोर्ट सरकार को सौंपी।

सीआईडी की जांच में पाया गया कि डॉक्टर शिल्पा को तीन प्रोफेसरों ने लैंगिक रूप से प्रताड़ित किया है। शिल्पा को प्रताड़ित करने वालों में प्रोफेसर रवि कुमारस शशि कुमार और किरीटी शामिल हैं।

यह भी पढ़ें:

ऑमलेट के लिए हुआ झगड़ा, वॉचमैन ने दे दी जान

अम्मिरेड्डी ने आगे बताया कि इस मामले को लेकर 47 लोगों के साथ पूछताछ की है। साथ ही इस मामले के लिए डिजिटल सबूत, सिट जांच दल का सहयोग और अनेक कमेटी की रिपोर्टों की भी जांच पड़ताल की गई है।

उन्होंने बताया कि शिल्पा गंभीर रूप से सरदर्द से परेशान रहती थी। इसी क्रम में उपर्युक्त डॉक्टर उसे लैंगिक रूप से प्रताड़ित करते थे। इनकी प्रताड़ना से तंग आकर शिल्पा ने आत्महत्या की ली है। शिल्पा के मौते के लिए उसके पति और परिवार वाले जिम्मेदार नहीं है।

डीएसपी ने बताया कि आरोपियों ने जमानत के लिए याचिका दायर की है। शीघ्र ही वो भी इस मामले की चार्जशीट को कोर्ट में दाखिल करेंगे।