प्रेमी के साथ मिलकर मां ऐसे कर रही थी पिता की हत्या, बच्चों ने देखा तो कर दिया बाथरूम में बंद

देविका, देविका के बच्चे और उसका प्रेमी बनर्जी ( डिजाइन फोटो)  - Sakshi Samachar

हैदराबाद : एक महिला ने प्रेमी के लिए पति की निर्मम हत्या कर दी। सुनिश्चित योजना के तहत प्रेमी के साथ मिलकर पति की हत्या करने के अलावा इस मामले से अपने यार को बचाने के लिए महिला ने यह कहकर पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की कि उसी ने पति की हत्या की है। हत्या करते हुए बच्चे नहीं देखे, इसके लिए महिला ने अपने बच्चों को बाथरूम में बंद कर बाहर से कुंडी लगा दी।

विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक पति की हत्या के बाद महिला ने पहले प्रेमी के साथ मिलकर शराब पी और उसके साथ शव के बगल में रात गुजारी। फिल्म नगर की ज्ञानी जेलसिंह नगर बस्ती में मंगलवार तड़के हुई जगन की हत्या की गुत्थी को बंजाराहिल्स पुलिस ने 24 घंटे के भीतर सुलझा लिया है। पुलिस ने जगन की हत्या में मृतक की पत्नी देविका के साथ उसके प्रेमी तोटा बनर्जी(32) का हाथ होने का पता लगाया।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक फिल्मनगर की ज्ञानी जेलसिंह नगर बस्ती में बर्थप्लस अस्पताल में कार्यरत बानोतु जगन (35) और देविका (30) दंपत्ति किराये के मकान में रह रहे थे और उनके दो बच्चे उदय और ज्योतश्री थे।

इसे भी पढ़ें :

शक्की पति ने पहले काटे पत्नी के पैर, फिर दी जान

देविका फिल्मनगर स्थित एडवान सॉफ्ट बीपीओ में हाउस कीपिंग का काम करती थी और उसका परिचय उसी संस्था में लॉयजन ऑफिसर के रूप में कार्यरत कृष्णा जिले के आवनीगड्डा निवासी तोटा बनर्जी (32) से हुआ, जो आगे बढ़कर अवैध संबंध में बदल गया।

एक साल पहले बनर्जी प्रेमिका देविका के माता-पिता के पास गया और देविका से शादी रचने की इच्छा जताई। इसपर उसके परिवार के लोगों ने उसको फटकार लगाने के अलावा जिस संस्था में वह काम करता था, वहां जाकर उसकी पिटाई कर दी।

इसी क्रम में छह महीने पहले देविका वहां हाउस कीपिंग का काम छोड़ दी, लेकिन पति की आंखों में धूल झोंकते हुए अकसर प्रेमी बनर्जी से मिलती रही। जगन को जब पत्नी देविका के बर्ताव पर शक हुआ तो उसने उसे चेताया और समाज में परिवार को बदनाम नहीं करने की नसीहत दी।

इसे भी पढ़ें :

प्रेमी की आदतों से नाराज थी प्रेमिका, मनाने की जगह लड़के ने कर दी हत्या

इसके बावजूद देविका ने बनर्जी से मिलना बंद नहीं किया और दोनों ने मिलकर यह योजना बनाई कि दोनों एक ही घर में किराये पर रहेंगे तो उनपर किसी को शक नहीं आएगा। इसी क्रम में दो महीने पहले बनर्जी ने ऐसा किया कि जगन-देविका ज्ञानी जेलसिंह नगर बस्ती स्थित एक मकान में किराए पर आ सके। उसके दो दिन बाद ही उसने अपना नाम बदलकर उसी घर के पेंटहाउस में किराया पर उतर गया। इसके बाद दोनों किसी को शक आए बिना आपस में मिलते रहे।

इसबीच, दोनों ने मिलकर उनके प्यार में रोड़ा बन रहे पति जगन को रास्ते से हटाने का प्लान बनाया और सोमवार की देररात प्लान को अंजाम देने का फैसला किया।

देविका ने सोमवार की रात करीब 1.30 बजे बनर्जी को अपने घर में बुलाया। इसके बाद देविका जगन के गुप्तांग कूंचने लगी, वहीं बनर्जी जगन की छाती पर बैठकर उसका मुंह और गला दबा दिया। करीब आधे घंटे तक जान बचाने की कोशिश करने के बावजूद जगन खुद को नहीं बचा सका और उसने दम तोड़ दी।

इसे भी पढ़ें :

लड़कियों को बंधक बनाकर जिस्मफरोशी का धंधा चला रहे गिरोह का भंडाफोड़, 7 गिरफ्तार

ठीक उसी दौरान नींद से जागे बच्चों ने देविका और बनर्जी को जगन पर हमला करते देखा, तो देविका उन्हें तुरंत बाथरूम में बंद कर बाहर से कुंडी लगा दी। विश्वस्त सूत्रों की मानें तो पति की हत्या के बाद देविका ने बनर्जी के साथ शव के बगल में रात गुजारी। यही नहीं, उसके करीब दो घंटे बाद देविका ने अपने भाई को फोन कर बताया कि उसके जीजा की मौत हो चुकी है।

तब तक बनर्जी वहां से चंपत हो चुका था। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची, तो देविका ने हाथों पर घाव दिखाते हुए पुलिस को यह भरोसा दिलाने की कोशिश की, उसी ने जगन की हत्या की है, लेकिन विफल रही।

बच्चे भगवान होते हैं...

आखिर बच्चों को भगवान क्यों कहा जाता है, इसका प्रमाण जगन-देविका दंपत्ति के दो बच्चों की कहानी है। देविका बोल रही थी कि उसी ने पति जगन की हत्या की है, जबकि बेटा उदय ने पुलिस को बताया कि सोमवार की देर रात एक अंकल घर में आया था। बच्चे की बात सुनकर पुलिस ने उसी दिशा में जांच को आगे बढ़ाया।

इसे भी पढ़ें :

प्रेमी के साथ हम-बिस्तर थी पत्नी, पति ने की पकड़ने की कोशिश, तो दांत से गुप्तांग काटकर हुई

फरारमृतक जगन के साले रमेश से पूछताछ करने पर उसने छह महीने पहले बनर्जी से हुई लड़ाई का जिक्र किया, तो पुलिस बनर्जी की तलाश में जुट गई। इसी के तहत पुलिस जब एडवान साफ्ट संस्था में जाकर बनर्जी के बारे में पूछताछ की, तो पता चला कि जिस घर में जगन की हत्या हुई थी, इसी घर के पेंटहाउस में वह रहता है। पुलिस ने बनर्जी को जब फोन किया, तो स्विच ऑफ आया।

इसपर पुलिस ने एडवान साफ्ट संस्था के अधिकारी से बनर्जी को फोन करवा कर उसके सेलटॉवर सिग्नल के आधर पर उसका पता लगाया। इसके तुरंत बाद पुलिस ने टीवी 9 के बगल की गली में एक ऑटो में छिपे आरोपी को पकड़ लिया। पूछताछ करने पर बनर्जी ने जगन की हत्या में देविका की मदद करने की बात स्वीकर की।

Advertisement
Back to Top