हैदराबाद: पुलिस ने हैदराबाद के बालानगर में तीन रोहिंग्या को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि बालापुर में फर्जी आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, पैन कार्ड और भारतीय पासपोर्ट के आधार पर तीन रोहिंग्या को पुलिस ने हिरासत में लिया है। आरोपियों ने उपरोक्त सभी दस्तावेज फर्जी पेश किए। तीनों आरोपी वर्ष 2013 में म्यांमार से शरणार्थी के रूप में आकर फर्जी दस्तावेजों के सहारे यहां रह रहे थे। उन्होंने गैरकानूनी तौर पर उपरोक्त दस्तावेज हासिल किए।

फर्जी बोनाफाइड के आधार पर आरोपियों ने फर्जी डिक्लरेशन बनाया और सरकारी अधिकारियों के समक्ष पेश किया। डिक्लरेशन में उन्होंने बताया कि वे म्यांमार से आए शरणार्थी रोहिंग्या हैं।

इसे भी पढ़ें :

बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थियों के लिए मुश्किल हालात

उधर, आरोपियों का कहना है कि उन्होंने भारतीय नागरिकता प्राप्त करने के लिए आवेदन किया है और भारतीय पासपोर्ट, आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस और बैंक खाता खोलने से जुड़े दस्तावेज पेश किए हैं।

प्राथमिक जांच में पाया गया है कि तीनों रोहिंग्या के नाम संयुक्त राष्ट्र के उच्च आयुक्त (शरणार्थी, UNHCR) के पास पंजीकृत नहीं है। पुलिस ने इस आधार पर मामला दर्ज कर लिया है। बता दें कि हैदराबाद में लगभग 3,500 से 4,000 रोहिंग्या शहर के विभिन्न क्षेत्रों में रहते हैं।