हैदराबाद: नगर पुलिस ने विदेशी मुद्रा की अवैध तस्करी के एक मामले का पर्दाफाश करते हुए लगभग 3.96 करोड़ रुपये मूल्य की विदेशी मुद्रा जब्त कर इस सिलसिले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक टास्कफोर्स पुलिस को पुराने शहर के मुगलपुरा निवासी व पेंटर रऊफ द्वारा बड़े पैमाने पर विदेशी मुद्रा दुबई भेजे जाने के बारे में पक्की सूचना मिली। तब से रऊफ की गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने वाले टास्कफोर्स के अधिकारियों को पता चला कि बुधवार शाम को अरब एमिरेट्स विमान से साउदी के लिये उड़ान भरने वाला है।

इस बीच, यह भी खबर मिली कि रऊफ एयरपोर्ट पर अपने लगेज चेक इन कर इमिग्रेशन और कस्टम्स काउंटर पार कर चुका है। एयरपोर्ट के भीतर पहुंच कर राऊफ के खिलाफ कार्रवाई करने का अधिकार टाक्सफोर्स के पास नहीं होने के कारण उसने इसकी खबर तुरंत कस्टम्स अधिकारियों को दी। एयर इंटेलिजेन्स यूनिट के कर्मचारियों ने त्वरित कार्रवाई करते हुए रऊफ को पकड़ लिया और लगेज बेल्ट पर मौजूद बैग को वापस मंगवाया। पुलिस ने जब बैग खोला, तो उसमें सात देशों की मुद्रा मिली।

रऊफ इन विदेशी मुद्रा की गड्डियों को ब्रेड और बिस्कुट के पैकेटों के बीच रखा हुआ था। पकड़ी गई मुद्रा में अमेरिकी डालर, यूरोप की यूरो सहित साउदी, कुवैत, ओमन जैसे देशों की मुद्रा शामिल है। पूछताछ में रऊफ ने बताया कि उसे यह राशि मुगलपुरा निवासी मेहरान ने दी है और इसे दुबई में रहने वाले अब्दुल्ला तक पहुंचाने पर उसे 15 हजार रुपये का कमीशन और विमान में आने-जाने के टिकट देने की बात हुई है।

रऊफ ने यह भी बताया कि खुद मेहरान उसे हवाई अड्डे तक छोड़ गया है। पुलिस ने जब रऊफ से फोन करवा कर मेहरान का पता जानने की कोशिश की, तो पता चला कि वह हवाई अड्डे से पहाड़ीशरीफ जाने वाले एक पेट्रोल पंप के पास है। इसके साथ ही राऊफ को एक कैब में भेजकर टास्कफोर्स पुलिस ने उस कैब का पीछा करते हुए मेहरान तक पहुंची और उसे पकड़ लिया।

पूछताछ में यह राशि मेहरान की नहीं बल्कि कुछ कमीशन व्यापारियों से लेकर 3 प्रतिशत कमीशन लेकर उसे दुबई भेजे जाने का पता चला। अब साउथजोन टास्कफोर्स पुलिस भी अब इस रैकेट के जड़ का पहुंचने की कोशिश में जुट गई है। इतने बड़े पैमाने पर विदेशी मुद्रा कहां से और कैसे हैदराबाद पहुंची, इसका भी पता लगाया जा रहा है।