नोएडा : नाइजीरिया के चार छात्रों पर सोमवार को हुए हमले के बाद बुधवार सुबह ग्रेटर नोएडा में एक अफ्रीकी महिला को कैब से खींचकर बाहर निकालने के बाद उसके साथ मारपीट की गई।
पुलिस के मुताबिक, महिला दिल्ली से अपनी एक मित्र से मिलकर आ रही थी, जिसके साथ कथित तौर पर नॉलेज पार्क के पास तड़के 4.30 बजे के आसपास मारपीट की गई।
महिला किस देश की है, इसका अभी तक पता नहीं चल पाया है।
पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और महिला के हमलावरों की पहचान करने के लिए जांच जारी है।
गौतमबुद्ध नगर के सहायक पुलिस अधीक्षक (एएसपी) अभिनंदन ने आईएएनएस से कहा, "महिला ने शिकायत दर्ज नहीं कराई। हम उन्हें प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए मनाने का प्रयास कर रहे हैं। हम घटना में शामिल लोगों की पहचान करने की भी कोशिश कर रहे हैं।"
उल्लेखनीय है कि ग्रेटर नोएडा के परी चौक के निकट एक भीड़ ने चार नाइजीरियाई छात्रों पर हमला कर दिया, जबकि दो छात्रों की एक शॉपिंग मॉल में पिटाई की गई।
ग्रेटर नोएडा के एनएसजी सोसायटी में रहने वाले 12वीं कक्षा के छात्र मनीष खत्री की मौत पर हुए प्रदर्शन के बाद हमले को अंजाम दिया गया।
कथित तौर पर अधिक मात्र में ड्रग्स लेने के कारण खत्री को दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद उसकी मौत हो गई। पुलिस ने इस मामले में तीन प्राथमिकी दर्ज की है।
पुलिस अधिकारी अविनाश दीक्षित ने आईएएनएस से कहा कि पांच लोग गिरफ्तार हुए हैं और एक हजार अज्ञात लोगों पर मामला दर्ज किया गया है।
दीक्षित के मुताबिक, पुलिस को ग्रेटर नोएडा में नाइजीरियाई छात्रों के एक संघ की तरफ से शिकायत मिली थी।
मारपीट के शिकार हुए दो नाइजीरियाई छात्रों - एनड्यूरेंस अमारावा (21) तथा प्रेसियस अमलसिमा (24)- को अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनके चेहरे व हड्डियों में चोट लगी है। चिकित्सकों ने उन्हें खतरे से बाहर बताया है।

यह भी पढ़़े :

नवजात बच्ची को जिंदा दफन करने का आरोपी गिरफ्तार

भवन गिर जाने के मामले में 4 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

सुरक्षित हैदराबाद के लिए 5K रन

पुष्करिणी में डूब जाने से दो की मौत


नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी में राजनीति शास्त्र से स्नातक की पढ़ाई कर रहे प्रेसियस अमलसिमा ने मंगलवार को अस्पताल में संवाददाताओं से कहा, "हम सोमवार शाम अंसल प्लाजा में खरीदारी कर रहे थे, जिस दौरान अचानक एक भीड़ ने हम पर हमला कर दिया। हमने अपनी जान बचाने के लिए एक दुकान में घुसने का प्रयास किया।"
एनड्यूरेंस उसी यूनिवर्सिटी में बीए-एलएलबी प्रथम वर्ष का छात्र है।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने घटना को 'निंदनीय' करार दिया।
बागले ने कहा कि विदेश राज्य मंत्री एम.जे.अकबर ने नाइजीरिया के कार्यवाहक उच्चायुक्त से बातचीत की और भारत में उनके देशवासियों की सुरक्षा के लिए कदम उठाने का आश्वासन दिया।
गौतमबुद्ध नगर में जिलाधिकारी एन.पी.सिंह ने कुछ नाइजीरियाई लोगों, पुलिस तथा नागरिकों, स्थानीय रेजिडेंट वेल्फेयर एसोसिएशंस, कॉलेजों व विश्वविद्यालयों के छात्रों व प्रतिनिधियों के साथ मिलकर एक शांति बैठक की।
एक बयान के मुताबिक, सिंह ने उन्हें आश्वस्त किया है कि प्रशासन विदेशी छात्रों की सुरक्षा के प्रति कटिबद्ध है और कहा कि ऐसी घटनाओं से 'भारत की छवि धूमिल होती है, जहां हजारों की संख्या में विदेशी छात्र पढ़ाई करने आते हैं।'
--आईएएनएस�