हैमिल्टन : न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान ग्लेन टर्नर को हैरानी है कि मौजूदा द्विपक्षीय श्रृंखला में भारत के पास जसप्रीत बुमराह की अगुवाई में शानदार तेज आक्रमण होते हुए भी फिलहाल मेजबान का पलड़ा भारी लग रहा है। टर्नर को हालांकि उम्मीद है कि बुमराह और मोहम्मद शमी 21 फरवरी से शुरू हो रही टेस्ट श्रृंखला में बेहतर प्रदर्शन करेंगे ।

पांच मैचों की टी20 श्रृंखला 5 . 0 से जीतने के बाद भारत ने वनडे श्रृंखला 0 . 3 से गंवा दी । टर्नर ने प्रेस ट्रस्ट को दिये इंटरव्यू में कहा ,‘‘ मेरे पास टी20 क्रिकेट के लिये बिल्कुल समय नहीं है । यह खेल पर धब्बा है । पचास ओवरों के मैच में खेल होता है । मुझे लगता है कि दोनों टीमों के गेंदबाजों ने काफी निराश किया ।''

उन्होंने कहा ,‘‘ इस समय न्यूजीलैंड का पलड़ा भारी लग रहा है लेकिन मैं हैरान हूं । मुझे समझ नहीं आ रहा कि भारतीय टीम का प्रदर्शन वनडे श्रृंखला में बेहतर क्यो नहीं रहा ।'

इसे भी पढ़ें :

गेंदबाजी व बल्लेबाजी में अव्वल रहे खिलाड़ी फिर भी हुई भारत की 3-0 से हार, ये हैं 5 बड़े कारण

विराट कोहली को बाबर आजम की खुली चुनौती, टेस्ट रैंकिंग से रचा इतिहास

टर्नर ने कहा कि टेस्ट में भारत को दिक्कत हो सकती है क्योंकि उसने सफेद गेंद से काफी क्रिकेट खेली है । उन्होंने कहा ,‘‘ शमी प्रतिभाशाली है और उसमें दमखम भी है । टेस्ट श्रृंखला शुरू होने पर उसका प्रदर्शन बेहतर होगा क्योंकि इसमें सीमित ओवरों की परिस्थितियां नहीं रहेंगी ।'

उन्होंने बुमराह के बारे में कहा ,‘‘ अपारंपरिक गेंदबाजी एक्शन होने के बावजूद वह नैसर्गिक प्रतिभा का धनी है । उसकी गेंदें सटीक होती है और वनडे में उसका प्रदर्शन अच्छा रहा । वैसे वनडे से टेस्ट क्रिकेट के लिये स्टेमिना बनाने में मदद नहीं मिलती जहां दिन के 25 ओवर डालने होते हैं ।''

टर्नर ने केन विलियमसन को अच्छा कप्तान बताते हुए कहा कि ब्रेंडन मैकुलम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कप्तानी के योग्य नहीं थे जबकि स्टीफन फ्लेमिंग के कार्यकाल में खिलाड़ी अधिक ताकतवर हो गए। उन्होंने कहा ,‘‘ केन का रवैया पारंपरिक है । मुझे उसका रवैया पसंद है और वह काफी स्थिर है । उसमें दबाव में बेहतर प्रदर्शन करने और कराने का हुनर है ।''