नई दिल्ली : वेस्टइंडीज के पूर्व क्रिकेटर ब्रायन लारा का मानना है कि विराट कोहली की अगुवाई वाली भारतीय टीम को आईसीसी के बड़े टूर्नामेंटों के नाकआउट मैचों को जीतने का तरीका ढूंढना होगा।

इस दिग्गज खिलाड़ी ने यहां दृष्टिबाधित महिलाओं के लिए पहली राष्ट्रीय क्रिकेट टूर्नामेंट ‘समर्थनम' की घोषणा के इतर शनिवार शाम में कहा, ‘‘यह उन चीजों में से एक है जिसे आपको समझना होगा। हर कोई भारत को दावेदार बताता है। सभी को पता होता है कि भारतीय टीम सेमीफाइनल या नाकआउट चरण में जगह बनाने वाली है।''

टेस्ट क्रिकेट में सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर के विश्व रिकॉर्डधारी को लगता है कि भारत को 70 के दशक की वेस्टइंडीज या पिछले दशक की ऑस्ट्रेलियाई टीम की तरह लगातार जीतने की क्षमता विकसित करने की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़ें :

मुझे पता है कि अलग प्रारूपों में खुद को कैसे ढालते हैं : मयंक

धवन के बाद भुवनेश्वर कुमार भी वनडे सीरीज से बाहर, शार्दुल ठाकुर को मिली जगह

उन्होंने इंग्लैंड में इस साल खेले गये विश्व कप का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘ हर टीम ऐसे मैच के लिए तैयार रहती है, चाहे वह क्वार्टर फाइनल हो या सेमीफाइनल। देखिए न्यूजीलैंड ने भारत के खिलाफ कैसे खेला, उन्हें पता था कि किसे निशाना बनाना है और क्या करना है। इसलिए भारत को इसकी सराहना करनी चाहिए।'' लारा ने कहा कि विराट कोहली और रोहित शर्मा जैसे बल्लेबाज टेस्ट में उनके 400 रन के रिकार्ड को तोड़ सकते हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘ विराट कोहली और रोहित शर्मा ऐसे खिलाड़ी हैं जो यदि पूरे दिन या डेढ़ दिन बल्लेबाजी करें तो निश्चित रूप से इस रिकॉर्ड को तोड़ सकते हैं। उम्मीद है, मैं इसे देखने के लिए रहूंगा।''