हैदराबाद : भारतीय क्रिकेट टीम शुक्रवार से यहां राजीव गांधी स्टेडियम में वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरू होने जा रहे तीन मैचों की टी-20 सीरीज में अपना दबदबा कायम रखने उतरेगी।

विश्व रैंकिंग में पांचवें नंबर पर काबिज भारत ने इस साल अगस्त में ही वेस्टइंडीज दौरे पर तीनों प्रारूपों में मेजबान टीम पर क्लीन स्वीप किया था। भारतीय टीम हालांकि पिछले महीने बांग्लादेश के खिलाफ खेली गई टी-20 सीरीज में रोहित शर्मा की कप्तानी में दबाव में दिख रही थी। मेजबान टीम को पहली बार बांग्लादेश के खिलाफ टी-20 सीरीज में हार का सामना करना पड़ा था।

लेकिन अब नियमित कप्तान विराट कोहली के लौटने से टॉप आर्डर में टीम को एक स्थिरता मिली है। उनके अलावा रोहित, लोकेश राहुल और श्रेयस अय्यर भी ऐसे बल्लेबाज हैं, जो कि किसी भी गेंदबाजी आक्रमण को तहस नहस कर सकते हैं। खासकर ऐसे में जब वेस्टइंडीज की टीम के पास अनुभव गेंदबाजों की कमी है।

बल्लेबाजी के अलावा भारतीय टीम का गेंदबाजी आक्रमण भी काफी घातक दिखाई दे रही है। अनुभवी भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी के लौटने मेजबान टीम की तेज गेंदबाजी आक्रमण काफी मजबूत हुई है।

भुवनेश्वर और शमी को दीपक चहर और शिवम दुबे से भी अच्छा साथ मिलेगा, जिन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ मिले सीमित ओवरों के मौके को अच्छे से भुनाया है।

अगर वेस्टइंडीज की टीम मेजबान टीम के तेज गेंदबाजों का तोड़ खोज लेते हैं तो फिर भारत के पास कैरेबियाई धुरंधरों को रोकने के लिए युजवेंद्र चहल, रवींद्र जडेजा और कुलदीप यादव जैसे हथियार भी शामिल हैं।

दूसरी तरफ विश्व रैंकिंग में 10वें नंबर पर काबिज और मौजूदा विश्व चैंपियन वेस्टइंडीज को अगर भारत के खिलाफ विजयी शुरुआत करनी है तो उसे टॉप क्रिकेट खेलना होगा।

कैरेबियाई टीम का हालिया टी-20 रिकॉर्ड सही नहीं रहा है और टीम को पिछले छह टी-20 मैचों में हार का सामना करना पड़ा है। वेस्टइंडीज को हाल में लखनऊ में अफगानिस्तान के खिलाफ भी 1-2 से सीरीज गंवानी पड़ी है।

केरन पोलार्ड की कप्तानी वाली विंडीज टीम अफगानिस्तान की घातक गेंदबाजी के सामने भी लड़खड़ाती हुई नजर आ रही थी, ऐसे में भारत के विश्व स्तरीय टॉप गेंदबाजी के आगे कैरेबियाई बल्लेबाजों को टिकने का साहस दिखाना होगा।

इसे भी पढ़ें :

IND Vs WI : भारत के खिलाफ सीरीज से पहले कीरोन पोलार्ड ने कही ये बातें

टी-20 विश्वकप को जीतने के लिए इस कमजोरी पर टीम इंडिया दे रही है ध्यान

भारत इस सीरीज को अगले साल होने वाले टी-20 विश्व कप की तैयारियों के लिहाज से भी अहम मान रहा होगा।

अगले साल अक्टूबर में ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 विश्व कप से पहले भारत को कम ही मैच खेलने हैं और ऐसे में वह अपनी कमजोरियों पर काबू पाना चाहेगा।

टीम इस तरह है...

भारतीय टी-20 टीम : विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, संजू सैमसन, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), मनीष पांडे, श्रेयस अय्यर, शिवम दुबे, रविंद्र जडेजा, वाशिंगटन सुंदर, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, दीपक चहर, भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी।

वेस्टइंडीज : केरन पोलार्ड (कप्तान), फेबियन एलन, शेल्डन कॉटरेल, शिमरन हियमायेर, जेसन होल्डर, ब्रेंडन किंग, इविन लेविस, कीमो पॉल, निकोलस पूरन, खारी पीएरे, दिनेश रामदीन, शेरफाने रदरफोर्ड, लेंडल सिमंस, हेडन वॉल्श जूनियर, किसरिक विलियम्स।