कोलकाता : कोलकाता के ईडन गार्डन्‍स में शुक्रवार से ऐतिहासिक डे-नाइट टेस्‍ट शुरू हो रहा है। भारत के क्रिकेट इतिहास में यह पहला डे-नाइट टेस्‍ट मैच होगा। ऐसे में टीम इंडिया के कप्‍तान विराट कोहली के पास इतिहास रचने का शानदार मौका है। भारतीय कप्‍तान विराट कोहली पहले टेस्‍ट में खाता नहीं खोल सके थे, लेकिन दूसरे टेस्‍ट में वह एक बड़ा रिकॉर्ड अपने नाम करने के इरादे से मैदान संभालेंगे।

कोहली को बतौर कप्‍तान 5,000 टेस्‍ट रन पूरे करने के लिए 32 रन की जरुरत है। वह इस उपलब्धि को हासिल करने वाले भारत के पहले कप्‍तान बन जाएंगे। वैसे, दुनिया में कोहली छठे कप्‍तान बनेंगे, जो कप्तान के रूप में 5,000 टेस्‍ट रन पूरे करेंगे।

इससे पहले दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्‍तान ग्रीम स्मिथ, ऑस्‍ट्रेलिया के एलेन बॉर्डर, रिकी पोंटिंग, वेस्‍टइंडीज के क्‍लाइव लॉयड और न्‍यूजीलैंड के स्‍टीफन फ्लेमिंग यह कमाल कर सके हैं। वैसे, विराट कोहली अगर दूसरे टेस्‍ट में 32 रन का आंकड़ा पार करने में कामयाब होते हैं तो कप्‍तान के रूप में सबसे तेज 5,000 टेस्‍ट रन पूरे करने वाले बल्‍लेबाज बन जाएंगे।

कोहली सबसे कम पारियों में पांच हजार रन बनाने वाले कप्‍तान बन जाएंगे। विराट कोहली पहली बार पिंक बॉल का इस्‍तेमाल करेंगे, ऐसे में उनके लिए मुकाबला आसान नहीं होने वाला है। भारतीय टेस्‍ट टीम के उप-कप्‍तान अजिंक्‍य रहाणे पहले ही अपनी टीम के साथियों को गुलाबी गेंद के प्रति सचेत कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें :

IND Vs BAN : लाल गेंद से कितनी अलग है गुलाबी बॉल, जानिए क्या होगी दिक्कत

रहाणे ने कहा था, 'लाल गेंद की तुलना में गुलाबी गेंद ज्‍यादा स्विंग होगी। मुझे उम्‍मीद है कि हमारे सभी खिलाड़ी जल्‍द ही इस स्थिति में खुद को ढाल लेंगे। हम अलग-अलग प्रारूप खेलने के आदि हैं। इसलिए यहां सिर्फ मानसिक रूप से तरोताजा रहने की जरुरत है। बाकी आपको तकनीकी कौशल ही सुरक्षित रखेगा। मानसिक रूप से अगर आप अपने आप को ढालने में कामयाब हुए तो यह बहुत अच्‍छा होगा।

इसे भी पढ़ें :

गुलाबी गेंद से डे-नाइट मैच को लेकर पुजारा चिंतित, कही यह बात...

कोलकाता टेस्ट से पहले रहाणे के सपने हुए ‘गुलाबी’, विराट-धवन ने किया ट्रोल

बहरहाल, कप्‍तान विराट कोहली भी पहली बार ही पिंक गेंद का सामना अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर करेंगे। इंदौर में पहले टेस्‍ट के बाद कोहली ने कहा था कि मैंने पहली बार गुलाबी गेंद का सामना किया और यह लाल गेंद की तुलना में बहुत ज्‍यादा स्विंग होती है। अब देखना होगा कि बांग्‍लादेश के खिलाफ ईडन गार्डन्‍स में कोहली का बल्‍ला चलेगा या एक बार फिर खामोश रहेगा।