कोलकाता : ऑफ-स्पिनर निर्देश बैसोया ने बुधवार को यहां भारत के अंडर-16 क्रिकेट टूर्नामेंट विजय मर्चेट ट्रॉफी में एक पारी में पूरे 10 विकेट लेने का अनोखा रिकार्ड अपने नाम किया है।

मेरठ से ताल्लुक रखने वाले निर्देश मेघालय के लिए एक गेस्ट बॉलर के रूप खेलते हैं। उन्होंने असम वैली स्कूल ग्राउंड में नागालैंड के खिलाफ खेले गए मैच में यह उपलब्धि हासिल की। उन्होंने 21 ओवर में 51 रन देकर सभी 10 विकेट लिए। इसमें उन्होंने 10 मेडन ओवर भी डाले।

15 वर्षीय निर्देश आईएएनएस से बात करते हुए बेहद खुश नजर आए। उन्होंने कहा, "मुझे अभी भी विश्वास नहीं हो रहा है। मैं पैदा भी नहीं हुआ था, जब अनिल कुंबले ने 10 विकेट चटकाए थे, लेकिन मैंने उस बारे में बहुत सुना है। मैं हमेशा वैसा कुछ करना चाहता था, लेकिन कभी यह नहीं सोचा था कि यह मेरी जिंदगी में इतनी जल्दी हो जाएगा। मैंने अभी अपने परिवार से बात की और वे भी भावुक हो उठे।"

यह पूछे जान पर कि मैच में कब उन्हें लगा कि वह 10 विकेट ले सकते हैं, निर्देश ने कहा, "मैंने पहले सत्र तक ही छह विकेट चटका लिए थे और उस समय मुझे लगा कि मैं सभी 10 विकेट ले सकता हूं। मेरा साथियों ने मेरा साथ दिया। पिच में सुबह से टर्न थी और मौसम ने भी मेरी मदद की।"

अंडर-16 विजय मर्चेट ट्रॉफी में बैसोया का यह दूसरा सीजन है और अबतक वह चार मैच में 27 विकेट ले चुके हैं। पिछले सीजन में उन्होंने छह मैचों में 33 विकेट चटकाए थे।

निर्देश तीन बहनों और दो भाइयों में सबसे छोटे हैं। वह घर वापस लौटकर सभी के साथ अपने अनुभव को साझा करना चाहते हैं, खासकर 10 विकेट लेने वाले स्पेल के अनुभव को।

उन्होंने कहा, "यह मेरे लिए एक सपना के सच होने जैसा है और मैंने कभी इसकी उम्मीद नहीं की थी। मुझे कड़ी मेहनत करते रहना होगा क्योंकि मुझे अभी लंबा सफर तय करना है। मैं सिर्फ 15 साल का हूं। मैं अपने परिवार को गौरवान्वित करना चाहता हूं।" उहोंने कहा, "मैं रविचंद्रन अश्विन और नाथन लायन से सीखने की बहुत कोशिश करता हूं।"

इसे भी पढ़ें :

जन्मदिन विशेष : अनिल कुंबले के इस खास रिकॉर्ड को नहीं तोड़ सकेगा कोई गेंदबाज

जन्मदिन विशेष : ऐसा कारनामा करने वाले पहले खिलाड़ी है अनिल कुंबले

निर्देश की इस गेंदबाजी ने क्रिकेट प्रशंसकों को कुंबले की याद दिला दी जिन्होंने 1999 में दिल्ली में हुए टेस्ट मैच में पाकिस्तान के खिलाफ 74 रन देकर 10 विकेट लिए थे और भारत को 212 रनों से जीत दिलाई थी।

मणिपुर के तेज गेंदबाज रेक्स सिंह पिछले साल एक पारी में 10 विकेट लेने वाले सबसे युवा गेंदबाज बने थे। उन्होंने कूच बेहार ट्रॉफी में यह उपलब्धि हासिल की थी। उनसे पहले, पुडुचेरी के बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज सिदक सिंह ने सीके नायडू ट्रॉफी में पिछले सीजन ही 10 विकेट चटकाए थे।