जन्मदिन विशेष : वीवीएस लक्ष्मण से जुड़ी कुछ रोचक बातें, जो नहीं जानते होंगे आप 

वीवीएस लक्ष्मण - Sakshi Samachar

हैदराबाद : भारतीय टीम के कलात्मक बल्लेबाज रहे वीवीएस लक्ष्मण आज अपना 45वां जन्मदिन मना रहे हैं। लक्ष्मण भारत के पूर्व राष्ट्रपति डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णनके ग्रेंड ग्रेंड नेफ्यू (भतीजे) हैं। 1 नवंबर 1974 को हैदराबाद में जन्मे लक्ष्मण का करियर उनके टैलेंट के मुताबिक लंबा तो नहीं रहा लेकिन उन्होंने इस दौरान ऐसी बेमिसाल पारियां खेली जिन्होंने पूरी दुनिया को हैरत में डाल दिया।

लक्ष्मण की कमाल की पारियों के बदौलत कई मौके ऐसे थे जिसमें भारत ने हारे हुए मैचों में जीत हासिल की। आइए आपको बताते हैं लक्ष्मण की उन पारियों के बारे में जिन्हें देख फैंस ने दांतो तले उंगलियां दबा ली।

सिडनी टेस्ट में जमाया था पहला टेस्ट शतक

लक्ष्मण 1996 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू कर चुके थे, लेकिन 2000 में सिडनी के ग्राउंड पर उनकी 167 रनों की पारी ने क्रिकेट की दुनिया में उन्हें पहचान दिलाई। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे टेस्ट में पहली पारी में भारत 150 रन पर ऑलआउट हो गई। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने बल्लेबाजी करते हुए अपनी पहली पारी 552/5 पर घोषित की। दूसरी पारी में ओपनिंग करने पहुंचे लक्ष्मण ने ग्लेन मैकग्रा, ब्रेट ली और शेन वॉर्न जैसे दिग्गजों की जमकर धुनाई की। 198 गेंदों में 167 रनों की पारी के बावजूद वह भारत की हार बचा नहीं पाए। ऑस्ट्रेलिया ने वह सिडनी टेस्ट मैच पारी और 141 रनों से जीता। ऑस्ट्रेलियाई कप्‍तान स्टीव वॉ ने लक्ष्मण की बैटिंग की खूब तारिफ की।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलकाता में 281 रन की पारी

साल 2001 में कोलकाता टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 445 रन बनाए। जवाब में भारत पहली पारी में 171 रन पर ऑलआउट हुआ और साथ ही फॉलोऑन भी झेलना पड़ा। स्टीव वॉ की टीम टेस्ट मैचों में ऑस्ट्रेलिया की लगातार 16वीं जीत की पूरी उम्मीद लगाए बैठी थी। लेकिन तीसरे नंबर पर बल्लेबाज़ी करने उतरे वीवीएस ने राहुल द्रविड़ के साथ मिलकर उनकी उम्मीदों पर बुरी तरह पानी फेर दिया। दोनों ने मिलकर दूसरी पारी में 376 रनों की साझेदारी की। उस वक्त लक्ष्मण की 281 रनों की पारी किसी भारतीय द्वारा टेस्ट मैच में सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर था।


एडिलेड में खेली थी 148 रनों की बेशकीमती पारी

2003 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड टेस्ट में 148 रनों की बेशकीमती पारी खेलकर भारत को जीत दिलाई थी। एक बार फिर द्रविड़ के साथ साझेदारी से कंगारुओं को उनके घर में मात मिली। उस दौरान द्रविड़ (233 रन) के साथ लक्ष्मण ने 303 रन जोड़े थे. 2008 में दिल्ली टेस्ट के दौरान लक्ष्मण ने नाबाद दोहरा शतक जमाया। इसके साथ ही वे ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2000 से ज्यादा रन (2434) बनाने वाले सचिन तेंदुलकर (3630) के बाद दूसरे भारतीय क्रिकेटर बन गए।

सिडनी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 178 रन

सिडनी के मैदान पर खेले गए सीरीज़ के आखिरी टेस्ट मैच को सचिन तेंदुलकर की शानदार पारी के लिए याद किया जाता है। इस मैच में सचिन ने नाबाद 241 रन बनाए थे। लेकिन दूसरे छोर पर लक्ष्मण ने सचिन का साथ दिया था। उस मैच में लक्ष्मण ने 178 रन भी बनाए थे।

पाकिस्तान के खिलाफ 107 की पारी

साल 2004 में पाकिस्तान के खिलाफ लाहौर में शतक ठोक वीवीएस लक्ष्मण ने टीम इंडिया को ऐतिहासिक जीत दिलाई थी। लाहौर में खेले गए सीरीज़ के आखिरी और पांचवें वनडे मैच में पहले बल्लेबाज़ी करने उतरी टीम इंडिया की पारी लड़खड़ा गई. ऐसे समय में लक्ष्मण ने 107 रनों की पारी खेलकर जैसे-तैसे टीम का स्कोर 293 तक पहुंचाया। भारत ने इस मैच को 40 रनों से जीतकर सीरीज पर 3-2 से फतह हासिल की।

घरेलू क्रिकेट में मचाई थी धूम

रणजी ट्रॉफी में वीवीएस लक्ष्मण के नाम एक सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड है और यह कीर्तिमान अब भी कायम है। उन्होंने 1999/2000 सीजन में हैदराबाद की ओर से खेलते हुए कुल 1415 रन बनाए थे, जिसे आज तक किसी ने नहीं छुआ है। सिक्किम की ओर से खेलने वाले मिलिंद कुमार 2018/19 में 1331 रन बनाकर दूसरे पायदान हैं, जबकि मुंबई के श्रेयस अय्यर 2015/16 सीजन में 1321 रन बनाकर तीसरे स्थान पर हैं।

लक्ष्मण ने 134 टेस्ट मैचों में 45.97 की औसत से 8781 रन और 86 वनडे मैच में 2338 रन बनाए। अपने करियर में 17 टेस्ट शतक और 56 अर्धशतक जमाये। 86 वनडे मैचों में 30 से ज्यादा की औसत से 2338 रन जिसमें 6 शतक और 10 अर्द्धशतक भी शामिल है। लक्ष्मण को इस बात का जरूर मलाल रहेगा कि वे कभी वर्ल्ड कप नहीं खेल पाए।

लक्ष्मण अपने करियर के पहले वनडे में शून्य पर आउट हुए थे। लक्ष्मण के नाम टेस्ट में दो विकेट भी दर्ज हैं। दायें हाथ से ऑफब्रैक गेंदबाजी करने वाले लक्ष्मण वेस्टइंडीज के एडम सेनफोर्ड और पाकिस्तान के मोहम्मदल आमिर को आउट कर चुके हैं।

कलात्मक बल्लेबाजी के लिए मशहूर लक्ष्मण ने अपने पूरे इंटरनेशनल करियर में सिर्फ 9 छ्क्के लगाए।

Advertisement
Back to Top