हैदराबाद : टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का आज अपना 41वां जन्मदिन मना रहे हैं। उनका जन्म 20 अक्टूबर 1978 को दिल्ली के नजफगढ़ में हुआ था। सहवाग को क्रिकेट से संन्यास लिए एक जमाना हो गया है, लेकिन फैंस के बीच आज भी वे खासे लोकप्रिय हैं। वे सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव रहते हैं। सहवाग अक्सर ट्विटर पर अपनी पोस्ट के कारण सुर्खियों में बने रहते हैं। आइए उनके जन्मदिन पर जानते हैं उनसे जुड़ी बातें........

हम सभी जानते हैं कि वीरेंद्र सहवाग बल्‍लेबाजी के अपने बेखौफ अंदाज के कारण क्रिकेटप्रेमियों में खासे लोकप्रिय रहे हैं। उनके खेलने का अंदाज बेहद ही आक्रमक था। इस तूफानी शैली के कारण दुनिया के नामी गेंदबाज भी उन्‍हें गेंदबाजी करने से खौफ खाते थे। सहवाग दायें हाथ के आक्रामक सलामी बल्लेबाज तो हैं ही किन्तु आवश्यकता के समय दायें हाथ से ऑफ स्पिन गेंदबाज़ी भी कर लेते हैं।

- सहवाग के बारे में सौरभ गांगुली ने कहा था, 'वीरू से पहले ओपनर गेंद को छोड़कर पुराना किया करते थे लेकिन सहवाग ने गेंद को पीटकर पुराना करना शुरू कर दिया।'

- सहवाग को 'नजफगढ़ के नवाब' और 'मुल्‍तान का सुल्‍तान' कहकर भी संबोधित किया जाता था। पाकिस्‍तान के खिलाफ मुल्‍तान टेस्‍ट में उन्‍होंने तिहरा शतक जमाया था।

-सहवाग ने अपने कैरियर में 104 टेस्ट और 251 वनडे मैच खेले। सहवाग ने जहां 104 टेस्‍ट की 180 पारियों में 49.34 की औसत से 8586 रन बनाये जिसमें 23 शतक शामिल थे। 251 वनडे मैचों में उन्‍होंने 35.05 की औसत से 8273 रन बनाये। इसमें 15 शतक शामिल रहे। इस दौरान 219 रन वनडे का उनका सर्वोच्‍च स्‍कोर रहा। उन्‍होंने 19 इंटरनेशनल टी20 मैच भी खेले।

- सहवाग ने अपना पहला वनडे वर्ष 1999 में पाकिस्‍तान के खिलाफ खेला था, जबकि पहला टेस्‍ट उन्‍होंने वर्ष 2001 में दक्षिण अफ्रीका और पहला टी-20 मैच 2006 में दक्षिण अफ्रीका के ही खिलाफ खेला था।

- सहवाग का पाकिस्तान के खिलाफ डेब्यू मैच बेहद ही खराब रहा, वह महज 1 ही रन बनाकर आउट हो गए। बताया जाता है कि सहवाग बल्लेबाज के लिए सातवें नंबर उतरे तो शाहिद अफरीदी ने गालियों के साथ उनका स्वागत किया। इमरान नजीर भी उन्हें लगातार अपशब्द बोलते रहे।

- सहवाग ने उस वक्त पहली बार भारत-पाकिस्तान के बीच मैच में तनाव को महसूस किया था। वह पाकिस्तानी खिलाड़ियों की गालियों से इतना परेशान हो गए कि आपा खो बैठे। वह बौखलाहट में गलत शॉट खेल बैठे और शोएब अख्तर की गेंद पर पगबाधा आउट हो गए।

- डेब्यू मैच में खराब प्रदर्शन के बाद सहवाग को टीम से बाहर कर दिया गया। एक साल बाद ऑस्टेलिया के खिलाफ उनको टीम में शामिल किया गया। जिसमें सहवाग ने बल्लेबाजी और गेंदबाजी का जौहर दिखाया। इस मैच के बाद सहवाग ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

-वीरेंद्र सहवाग अकेले भारतीय क्रिकेटर हैं जिनके नाम टेस्‍ट क्रिकेट में दो तिहरे शतक दर्ज हैं। भारत की ओर से उनके अलावा करुण नायर ने ही टेस्‍ट क्रिकेट में तिहरा शतक जमाया है। सहवाग ने पाकिस्‍तान और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ यह तिहरे शतक बनाए थे।

-सहवाग ने अपने पहले ही टेस्‍ट में शतक बनाया था। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अप्रैल 2001 में ब्‍लोमफोंटेन में खेले गए टेस्‍ट में उन्‍होंने 105 रन बनाए थे। हालांकि इसके बावजूद मैच में भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा था।

- सहवाग को खाने-पीने खासकर दूध पीने का बहुत शौक है। टीम इंडिया के तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने एक इंटरव्‍यू में बताया था कि कोटला मैदान पर प्रैक्टिस के लिए सहवाग उन्‍हें लेने जब घर आते थे तो टेबल पर रखा उनके हिस्‍से का दूध पी जाते थे।

- वीरेंद्र सहवाग ऑफ स्पिन गेंदबाजी भी करते थे। अपनी बॉलिंग से उन्‍होंने टेस्‍ट क्रिकेट में 40 और वनडे में 96 विकेट हासिल किए।

-सहवाग वर्ष 2007 में टी20 वर्ल्‍डकप जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्‍य थे। वर्ष 2011 में 50 ओवरों के वर्ल्‍डकप जीतने वाली टीम का भी वे हिस्‍सा रहे। खास बात यह है कि भारतीय टीम ने ये दोनों वर्ल्‍डकप महेंद्र सिंह धोनी की कप्‍तानी में ही हासिल किए थे।

- सहवाग ने अपना आखिरी टेस्ट मैच 2-5 मार्च 2013 को हैदराबाद में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला। अपने 37वें जन्मदिन पर 2015 में उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया।

- आपको बता दें कि बल्‍लेबाजी के दौरान तनाव कम करने के लिए सहवाग मैदान पर ही गाना गाया करते थे। वे किशोर कुमार की गायकी की बड़े प्रशंसक रहे हैं। सहवाग का विवाह आरती से हुआ है और उनके दो बेटे हैं।