दुबई : भारत विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में शुरू में मजबूत स्थिति में पहुंचने के लिये दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दो अक्टूबर से शुरू होने वाली तीन टेस्ट मैचों की श्रृंखला में कोई कसर नहीं नहीं छोड़ेगा जबकि मेहमान टीम इस प्रतियोगिता में अपने अभियान की शुरुआत करेगी।

विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम ने वेस्टइंडीज के खिलाफ 2-0 से बढ़त हासिल की थी जिससे उसे श्रृंखला से पूरे 120 अंक मिले। अब तक विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के तहत जो तीन श्रृंखलाएं खेली गयी हैं उनमें केवल भारत ही ऐसा कर पाया है।

श्रीलंका और न्यूजीलैंड ने दो मैचों की श्रृंखला 1-1 से बराबर करायी थी और उनमें से प्रत्येक के 60 अंक हैं जबकि इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया के बीच पांच मैचों की एशेज श्रृंखला 2-2 से बराबर छूटी थी ओर उनमें से प्रत्येक के 56 अंक हैं।

टेस्ट क्रिकेट में नयी जान फूंकने के लिये पिछले महीने इस चैंपियनशिप की शुरुआत की गयी थी। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच विशाखापत्तनम, पुणे और रांची में होने वाले टेस्ट मैचों में से प्रत्येक में 40 अंक दांव पर लगे होंगे।

इसे भी पढ़ें :

सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा हुए डक आउट, खेल पाए दो गेंद

इस चैंपियनशिप के तहत श्रृंखला के मैचों के आधार पर प्रत्येक टेस्ट के लिये अंक तय किये जाते हैं जैसे दो टेस्ट मैचों की श्रृंखला में एक टेस्ट के लिये 60 अंक जबकि पांच मैचों की श्रृंखला में एक टेस्ट के लिये 24 अंक मिलते हैं।

इसे भी पढ़ेंं :

मोहम्मद अजहरुद्दीन ने केटीआर से की मुलाकात, दिया सहयोग का आश्वासन

पानी भरी पिच पर भी ऐसे अभ्यास किया करते थे तेंदुलकर, देखें वीडियो

भारत अगर तीनों टेस्ट मैच जीतने में सफल रहता तो उसके अंकों की संख्या 240 हो जाएगी। दूसरी तरफ दक्षिण अफ्रीका अगर तीनों मैच जीतता है तो उसके भारत के समान 120 अंक हो जाएंगे। लीग चरण के आखिर में शीर्ष पर रहने वाली दो टीमों के बीच जून 2021 में यूनाईटेड किंगडम में फाइनल खेला जाएगा जिसके विजेता को विश्व टेस्ट चैंपियन का खिताब मिलेगा।