नई दिल्ली : पिछले दिनों इंग्लैंड में संपन्न एक दिवसीय विश्वकप के सेमीफाइनल में टीम इंडिया के न्यूजीलैंड के हाथों हारने के बाद से भारतीय टीम के कई खिलड़ियों को लेकर सवाल उठने लगे हैं। मुख्य रूप से पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी लगातार सुर्खियों में हैं। हालांकि विश्वकप के बाद पूर्व कप्तान ने वेस्ट इंडीज और दक्षिण अफ्रीका के साथ मैचों से खुद को दूर रखा है।

टीम इंडिया में महेंद्र सिंह धोनी की जगह खेल रहे युवा क्रिकेटर ऋषभ पंत को बल्लेबाजी में लगातार विफल होते देख क्रिकेट फैन्स टीम में फिर से महेंद्र सिंह धोनी को लाने की मांग कर रहे हैं, वहीं दिग्गज क्रिकेटरों की राय कुछ अलग है।

पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर का मानना है कि अगले साल आस्ट्रेलिया में होने वाले विश्व टी20 को देखते हुए भारतीय क्रिकेट के लिये अब महेंद्र सिंह धोनी से आगे के बारे में सोचने और युवाओं में निवेश करने का समय आ गया है।

हालांकि उपलब्ध विकल्पों पर काफी बहस चल रही है क्योंकि ऋषभ पंत मिले मौकों का फायदा नहीं उठा पा रहे हैं। लेकिन अगले साल होने वाले विश्व टी20 के लिये वह गावस्कर की 'पहली पसंद' हैं। यह पूछने पर कि धोनी को बांग्लादेश दौरे के लिये चुना जाना चाहिए, गावस्कर ने नकारात्मक जवाब दिया। गावस्कर ने 'आज तक' से कहा, 'नहीं, हमें उनसे आगे देखने की जरूरत है। कम से कम मेरी टीम में महेंद्र सिंह धोनी शामिल नहीं हैं।

अगर आप टी20 विश्व कप के बारे में बात कर रहे हो तो मैं निश्चित रूप से ऋषभ पंत के बारे में सोचूंगा। ''गावस्कर ने कहा कि अगर पंत अच्छा नहीं करते हैं तो संजू सैमसन अगला सर्वश्रेष्ठ विकल्प होगा। उन्होंने कहा, 'अगर मुझे एक अन्य विकल्प की जरूरत होगी तो मैं संजू सैमसन के बारे में सोचूंगा क्योंकि संजू एक अच्छा विकेटकीपर और एक अच्छा बल्लेबाज है। ''

इसे भी पढ़ें :

धोनी के रिटायरमेंट की खबर गलत, कोहली के ट्वीट के बाद तेज हुई थी चर्चा

क्या वाकई खत्म हो गया महेंद्र सिंह धोनी का क्रिकेट करियर, इस सीरीज में होगा फैसला

इस महान सलामी बल्लेबाज ने कहा, 'अगर मुझे टी20 विश्व कप के बारे में सोचना है तो मैं युवाओं के बारे में सोचूंगा क्योंकि हमें आगे के बारे में सोचने की जरूरत है। धोनी ने भारतीय क्रिकेट को अच्छा योगदान दिया है, लेकिन अब उससे आगे के बारे में देखने का समय आ गया है। ''

धोनी ने अभी अंतरराष्ट्रीय संन्यास की घोषणा नहीं की है, लेकिन मौजूदा चयन समिति ने पहले ही संकेत दे दिया है कि वह पीछे नहीं देखना चाहती। हालांकि पंत निरंतर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं और उनके खराब शाट चयन से टीम को नुकसान हो रहा है जैसा कि मुख्य कोच रवि शास्त्री ने हाल में कहा था।