नई दिल्ली : भारतीय महिला क्रिकेट टीम की स्टार खिलाड़ी मिताली राज ने टी-20 क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया है। हालांकि मिताली वनडे क्रिकेट खेलती रहेंगी।

टी-20 क्रिकेट से अलविदा कहने के बाद मिताली ने कहा है, 'साल 2006 से अब तक भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व करने के बाद मैं इस फॉर्मेट को अलविदा कहना चाहती हूं। मैं इस समय 2021 के वनडे वर्ल्ड कप पर फोकस कर रही हूं।' ऐसे में हम आज हम आपको मिताली राज की उन इनिंग्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके बदौलत वह महिला क्रिकेट का सचिन तेन्दुलकर कही जाती है।

भारत बनाम आयरलैंड मैच

मिताली राज ने 1999 में आयरलैंड के खिलाफ अपना वनडे डेब्यू किया और नाबाद 114 रनों की पारी खेली। मिताली की इस शानदार पारी की बदौलत भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने इस मैच में आयरलैंड के खिलाफ 50 ओवरों में बिना विकेट खोए 258 रन बनाए। जवाब में आयरलैंड की महिला टीम महज 97 रनों पर ऑल आउट हो गईं और भारत ने 161 रन से मैच जीत लिया।

भारत बनाम इंग्लैंड टेस्ट मैच

साल 2002 में 19 साल की उम्र में मिताली राज ने अपने तीसरे टेस्ट मैच में इंग्लैंड के खिलाफ 214 रन बनाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था। मिताली ने इस पारी के दौरान करेन रोल्टन का 209 रनों का सर्वोच्च व्यक्तिगत टेस्ट स्कोर का रिकॉर्ड तोड़ा था। हालांकि बाद में यह मैच ड्रॉ हो गया था। मिताली राज के इस रिकॉर्ड को पाकिस्तान के किरण बलूच ने पीछे छोड़ दिया, जिन्होंने 2004 में वेस्टइंडीज के खिलाफ 242 रन बनाए थे।

वीमेन वर्ल्ड कप क्वालीफायर मैच

साल 2017 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ यह मैच मिताली राज के लिए काफी अहम था। इस मैच में मिताली राज चार्लोट एडवर्ड्स के बाद 5,500 एकदिवसीय रन बनाने वाली दूसरी महिला खिलाड़ी बनीं।

इस मैच में शुरुआत में भारतीय टीम का रन रेट सुस्त था, मिताली राज ने खुद नंबर 3 पर आकर मेश्राम के साथ दूसरे विकेट के लिए 96 रन जोड़कर दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 49 रन से भारत को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई। इस जीत ने महिला विश्व कप 2017 में भारतीय टीम की जगह लगभग पक्की कर थी।

इसे भी पढ़ें :

मिताली राज ने टी-20 क्रिकेट से लिया संन्यास, बनाए थे ये बड़े रिकॉर्ड

भारत बनाम न्यूजीलैंड

साल 2017 में आईसीसी महिला विश्व कप 2017 के एक मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ भारतीय टीम पहले बल्लेबाजी कर रही थी। एक समय भारत के दो विकेट महज 21 रन पर गिर गए थे और फिर मिताली राज ने क्रीज पर कदम रखा। उसने हरमनप्रीत कौर के साथ मिलकर 132 रनों की साझेदारी की। मिताली राज की मैच विनिंग शतक की मदद से भारत ने 265 रनों का सम्मानजनक स्कोर खड़ा किया। यह उनका छठा वनडे शतक था। भारत ने इस मैच को 186 रन से जीतकर सेमीफाइनल में जगह बनाई थी।

भारत का इंग्लैंड दौरा

जुलाई 2012 में पहले वनडे मैच में मिताली राज ने इंग्लैंड के खिलाफ शानदार प्रदर्शन करते हुए 111 गेंदों पर नाबाद 94 रनों की पारी खेली। इंग्लैंड की टीम 229 पर ऑल आउट हो गई जवाब में पूनम राउत (60) और मिताली राज (94) के बीच शानदार 106 रनों की साझेदारी हुई और आखिर में हरमनप्रीत के अर्धशतक ने भारत को 5 विकेट से जीत दिलाई।

मिताली राज के ये कुछ पारियां हैं जिन्होंने साबित किया कि मिताली राज को भारतीय महिला क्रिकेट की सचिन तेंदुलकर क्यों कहा जाता है।

आपको बात दें कि मिताली राज भारत की पहली महिला टी-20 कप्तान रह चुकी हैं। मिताली राज ने भारत के लिए 88 टी-20 मैचों में कप्तानी की है। इन मैचों में मिताली ने 17 फिफ्टी बनाए हैं।

मिताली भारत के लिए सबसे पहले टी-20 इंटरनेशनल क्रिकेट में 2000 रन बनाने वाली खिलाड़ी बनी थीं। आपको बता दें कि मिताली राज ने रोहित शर्मा और विराट कोहली से पहले टी-20 इंटरनेशनल क्रिकेट में 2000 रन पूरे किए थे।