हैदराबाद : क्रिकेट के खेल में बारिश या किसी अन्य प्रकार से जब बाधा पड़ती है तो मैच का परिणाम निकालने के लिए एक नियम लागू किया जाता है, उस नियम को तक डकवर्थ लुईस नियम के नाम से जाना जाता है। हर किसी के मन में इस बात की जिज्ञासा होती है कि यह डकवर्थ लुईस क्या है और किस आधार पर यह गणना की जाती है। अब लोग इसे कोर्स में भी शामिल करने की मांग कर रहे है, जिससे आम लोगों को भी इस गणना प्रणाली का ज्ञान हो सके।

आपको बता दें कि डकवर्थ लुईस मेथड को दो अंग्रेज सांख्यिकी विशेषज्ञों ने तैयार किया था। इनका नाम फ्रैंक डकवर्थ और टोनी लुईस है। इस प्रणाली को आंकड़ों के विश्लेषण के लिए बेहद सटीक माना गया है और निर्धारित ओवरों वाले मैच में इस नियम की गणना को स्वीकार करते हुए लागू करने की परंपरा शुरू की गई।

डकवर्थ लुईस नियम से दूसरी पारी में खेलने वाली टीम के लिए उचित लक्ष्य निर्धारित किया जाता है. जो पहली टीम द्वारा बनाए गए कुल रन, उनके द्वारा खोए गए विकेटों की संख्या और कुल खेले गए ओवरों के आंकड़ों का इस्तेमाल करने की जानकारी को ध्यान में रखकर तैयार किया जाता है।

कैलकुलेशन का ग्राफ
कैलकुलेशन का ग्राफ

साल 2015 में डकवर्थ लुईस फॉर्मूला बदलकर डकवर्थ लुईस स्टर्न फॉर्मूला हो गया। इसमें क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर स्टीव स्टर्न के द्वारा किए गए शोध को भी जगह दी गई, जिसमें टीमों के लिए शुरुआत में लक्ष्य का पीछा करते हुए विकेट बचाकर रखने के साथ-साथ तेजी से रन बनाने को भी शामिल किया गया है। इसके बाद इसे डीएल की जगह डीएलएस मैथड कहा जाने लगा।

इसे भी पढ़ें :

यह है डकवर्थ लुईस का गणित, मैच जीतने के लिए भारत को मिलेगा इतने रनों का टारगेट

World Cup 2019: आज भी हो गई बारिश तो क्या होगा भारत-न्यूजीलैंड मैच का समीकरण

फार्मूले का चार्ट
फार्मूले का चार्ट

ऐसे काम करता है फार्मूला

जैसे मान लीजिये पहले खेलने वाली टीम ने 50 ओवर में 250 रन बनाए और दूसरी टीम ने 5 विकेट खोकर 40 ओवर में 199 रन बना चुकी है और बारिश आ जाती है मैच में और खेल रोक दिया जाता है । ऐसी स्थिति में अब विनर का पता लगाने के लिए डकवर्थ लुईस का नियम लाया जाता है। पहले खेलने वाली टीम ने 50 ओवर खेले यानि उस टीम ने 100% साधन का इस्तेमाल किया है, दूसरी टीम जब मैदान पर उतारी थी तो उसके पास भी 100% साधन थे। उन्होंने 40 ओवर में 5 विकेट खोकर कुछ रन बनाये। अब बारिश की वजह से मैच रुक गया।

तब डकवर्थ लुईस नियम की टेबल के हिसाब से उस टीम के पास 27.5 साधन बाकी बचे थे। मतलब दूसरी यानि दूसरी पारी खेलने वाली टीम के 27.5% साधन का नुकसान हो गया। मतलब 100 – 27.5 = 72.5% साधन ही उसने इस्तेमाल किये. उसे पहले खेलने वाली टीम के मुकाबले कम साधन मिले तो दूसरी टीम का स्कोर साधनों के हिसाब से घटाना होगा। यानि 72.5/100
पहली टीम ने बनाये थे 250 यानि दूसरी टीम का टारगेट 250 x 72.5/100 = 181.25 होगा। तो दूसरी टीम को अब टोटल 182 रन चाहिए। पर वो पहले ही 199 रन बना चुकी है यानि दूसरी टीम 18 रन से ये मैच जीत चुकी है।