विश्वकप 2019 में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले जा रहे पहले सेमीफाइनल में तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को अंतिम-11 में जगह नहीं मिलने को लेकर दुनियाभर के क्रिकेट प्रेमी तरह-तरह से रिएक्ट कर रहे हैं। अधिकांश लोगों का कहना था कि शमी को अंतिम-11 में जगह मिलनी चाहिए थी, क्योंकि उन्होंने केवल चार मैच में 17 विकेट झटके हैं, जबकि टीम इंडिया के अन्य खिलाड़ियों ने 8 मैचों में भी इतने विकेट नहीं लिए हैं।

यही नहीं, मोहम्मद शमी को भारतीय टीम में शामिल न किए जाने से उनके कोच बदरुद्दीन सिद्दिकी हैरान हैं। शमी को सेमीफाइनल में अंतिम-11 में जगह नहीं मिली। उन्होंने इस विश्व कप में चार मैचों में 14 विकेट लिए हैं। श्रीलंका के खिलाफ खेले गए अंतिम लीग मैच में भी उन्हें अंतिम-11 में नहीं चुना गया था, लेकिन तब यह माना गया था कि उन्हें आराम दिया गया है।

बदरुद्दीन ने कहा, "मैं हैरान हूं। जिसने चार मैचों में 14 विकेट लिए हैं उसे आप कैसे बाहर रख सकते हैं? आप एक तेज गेंदबाज से और क्या उम्मीद रखते हैं। मुझे लगा था कि श्रीलंका के खिलाफ आराम दिया है इसका मतलब है कि नॉकआउट मैचों में उन्हें तरोताजा रखने की कोशिश की जा रही है, लेकिन मेरा आंकलन साफ तौर पर गलत साबित हुआ।"

उनसे जब पूछा गया कि शमी की बल्लेबाजी एक कारण हो सकती है क्योंकि अंत में भुवनेश्वर कुमार रन कर सकते हैं? इस पर कोच ने कहा, "सच में ? अगर आप शमी और भुवनेश्वर की बल्लेबाजी के भरोसे हो तो फिर हम हर सूरत में मैच हारेंगे। ईमानदारी से कहूं तो, अगर शीर्ष-6 आपके लिए रन नहीं कर सकते तो बाकी के बल्लेबाज भी नहीं कर सकते। टूर्नामेंट की शुरुआत में उन्हें मौका नहीं दिया गया था लेकिन बाद में जब उन्हें मौका मिला तो उन्होंने अपने आप को साबित किया है।"कोच ने साथ ही शमी को चोट की आशंका को भी खारिज कर दिया है।

इसे भी पढ़ें :

अनजान महिला को मैसेज कर रहे मोहम्मद शमी, वायरल हुआ ये स्क्रीनशॉट ?

उन्होंने कहा, "मैंने वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले गए मैच के बाद उनसे अंतिम बार बात की थी। मुझे लगता है कि जिस लय में वो गेंदबाजी कर रहा था वो यह बताने के लिए काफी थी कि वह पूरी तरह से फिट हैं। अगर उन्हें कल या एक दिन पहले कोई नई चोट लगी हो तो इसके बारे में मुझे नहीं पता।"