बर्मिघम। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने सोमवार को चोटिल हरफनमौला खिलाड़ी विजय शंकर के स्थान पर मयंक अग्रवाल को भारतीय टीम में शामिल करने को मंजूरी दे दी।

शंकर पैर में चोट के कारण आईसीसी विश्व कप-2019 से बाहर हो गए हैं। उनके स्थान पर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने मंयक को टीम में शामिल करने के लिए आईसीसी से अपील की थी जिसे मंजूर कर लिया गया है।

ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि आखिर क्यों मयंक अग्रवाल को टीम में शामिल किया जा रहा है. जबकि, इस रेस में अंबति रायडू, अजिंक्य रहाणे और श्रेयस अय्यर भी थे।

मयंक अग्रवाल को लेकर दिलचस्प बात यह है कि उन्होंने टीम इंडिया के लिए अभी तक एक भी वनडे मैच नहीं खेला है। हालांकि, टेस्ट और लिस्ट-ए क्रिकेट में उनका प्रदर्शन बेहतर रहा है। यही नहीं उन्हें इंग्लैंड में खेलने का अनुभव भी है जो उन्हें टीम इंडिया में कवर के तौर पर शामिल होने वाले नामों में नंबर एक पर रखता है।

संबंधित खबर -

टीम इंडिया को लगा तीसरा झटका, विश्वकप से बाहर हुए विजयशंकर

आईपीएल-2019 में मयंक का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था। वह सिर्फ 25.53 की औसत से रन बना पाए थे, लेकिन इंग्लैंड में अच्छी बल्लेबाजी का अनुभव उनके काम आया। इंग्लैंड में उन्होंने 6 पारियों में 442 रन ठोके।

आईसीसी की वेबसाइट पर जारी बयान में कहा गया है, "आईसीसी इस बात की पुष्टि करती है कि पुरुष विश्व कप-2019 की तकनीकी समिति ने शंकर के स्थान पर मयंक को भारतीय टीम में शामिल करने के लिए अपनी मंजूरी दे दी है।"

मंयक को हालांकि विश्व कप के लिए स्टैंडबाई भी नहीं चुना गया था। वह अभी तक एक भी बार भारत की वनडे टीम में नहीं चुने गए। मयंक हालांकि भारत की टेस्ट टीम का हिस्सा हैं और बीते साल आस्ट्रेलिया में भारत की ऐतिहासिक जीत में उनका भी योगदान था।