बर्मिघम : न्यूजीलैंड और पाकिस्तान के बीच बुधवार को वर्ल्ड कप का 33वां मुकाबला खेला गया। बाबर आजम 101* और हरिस सोहेल 68 की शानदार पारियों की बदौलत पाकिस्तान ने बुधवार को बर्मिंघम में खेले गए अहम मुकाबले में न्यूजीलैंड को 6 विकेट से हरा दिया।

न्यूजीलैंड के 237 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान की शुरुआत अच्छी नहीं रही और उसने अपने तीन विकेट 110 रन पर ही गंवा दिए। लेकिन बाबर और सोहेल की महत्वपूर्ण शतकीय साझेदारी की बदौलत पाकिस्तान ने मैच जीत के साथ अपने सेमीफाइनल की उम्मीदों को बरकरार रखा।

पाकिस्तान की तरफ से बाबर आजम ने जहां सर्वाधिक 101 रन बनाए वहीं न्यूजीलैंड की तरफ से बोल्ट, फर्गुसन और विलियमसन ने 1-1 विकेट लिए।

इससे पहले बल्लेबाजी करने उतरी कीवी टीम ने पाकिस्तान को 50 ओवरों में 238 रनों का लक्ष्य दिया है। जवाब खेलने उतरी पाकिस्तान की टीम को 19 रन के स्कोर पहला झटका लगा है। ओपनिंग करने आए फखर नौ रन बनाकर पवेलियन लौट गए। इसके बाद 44 रन के स्कोर पर इमामउल हक 19 रन बनाकर आउट हुए। खबरलिखे जाने तक 21 ओवर में पाकिस्तान 2 विकेट पर 88 रन बना चुका है। क्रीज पर हफीज 24 और बाबर 35 रन पर खेल रहे हैं।

इससे पहले पहले बल्लेबाजी करने उतरी न्यूजीलैंड टीम का प्रदर्शन बेहद खराब रहा। उसकी आधे खिलाड़ी 100 रन से पहले ही पवेलियन लौट गए। हालांकि, कॉलिन डी ग्रैंडहोम और जेम्स नीशम ने अर्धशतकीय साझेदारी पूरी कर टीम को संभालने की कोशिश की है। कप्तान केन विलियम्सन 41 रन बनाकर शादाब खान का शिकार बने।

सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए पाकिस्तान के लिए करो या मरो के हालात

सेमीफाइनल में जाने के लिए पाकिस्तान को अब अपने सभी मैच जीतने ही होंगे। पाकिस्तान ने पिछले मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका को मात दी थी। न्यूजीलैंड की टीम अब तक इस टूर्नामेंट में एक भी मैच नहीं हारी है। अपने पिछले मैच में उसने वेस्टइंडीज को हराया।

पिछले मैच में पाकिस्तान ने हैरिस सोहेल को मौका दिया था और उन्होंने मौका का पूरा फायदा उठाते हुए बेहतरीन अर्धशतक जमाया था। न्यूजीलैंड के खिलाफ भी सोहेल से यही उम्मीद होगी। वहीं बाबर आजम, मोहम्मद हफीज को भी बड़ी भूमिका निभानी होगी। फखर जमन से भी टीम को काफी उम्मीदें होंगी।

गेंदबाजी में मोहम्मद आमिर उसके मुख्य हथियार हैं जो अभी तक 15 विकेट ले चुके हैं। पाकिस्तान की गेंदबाजी उन्हीं के इर्द गिर्द घूमती है। वहाब रियाज और हसन अली को उनका निरंतर साथ देने की जरूरत है।

पाकिस्तान की सबसे बड़ी चिंता उसकी फील्डिंग है। यहां एकदम सुधार की उम्मीद बेमानी होगी लेकिन पाकिस्तान की कोशिश होगी की वह फील्डिंग के बेसिक्स मजबूत कर कुछ लाभ तो उठाए।

वहीं अगर न्यूजीलैंड की बात की जाए तो टीम पूरी तरह से संतुलित है और कहीं से भी वापसी करने का दम रखती है। वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरुआत में ही दो विकेट जल्दी खोने के बाद कप्तान केन विलियम्सन और अनुभवी रॉस टेलर ने टीम को संभाला था।

इसे भी पढ़ें :

World Cup 2019 : मेजबान इंग्लैंड को मुसीबत में डाल सेमीफाइनल में पहुंची आस्ट्रेलिया

विलियम्सन अभी शानदार फॉर्म में चल रहे हैं और पाकिस्तानी गेंदबाजी के लिए सबसे बड़ा सिरदर्द होंगे। वहीं कोलिन डी ग्रांडहोम, लॉकी फग्र्यूसन भी नीचे बड़ा शॉट लगा सकते हैं।