हैदराबाद : भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं होती रहती हैं, और माना जाता है कि अगर वह मैदान में हैं तो भारतीय खिलाड़ियों में एक नई ऊर्जा रहती है। साथ ही समय-समय पर वह अपने टिप्स के जरिए खिलाड़ियों को बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित भी करते रहते हैं।

कल अफगानिस्तान के साथ खेले गए मैच में जब भारतीय टीम अंतिम ओवर तक जीत के लिए संघर्ष कर रही थी। ऐसे में महेंद्र सिंह धोनी ने एक बार फिर अपनी क्षमता और प्रतिभा का इस्तेमाल करते हुए गेंदबाज मोहम्मद शमी को एक ऐसी सलाह दी जिसके जरिए भारत मैच जीतने में सफल हो गया।

बताया जाता है कि वह शमी से स्लो यॉर्कर लैंथ की गेंद डालने को कहा। पहली गेंद के बाद शमी ने यही किया। इसके बाद की उनकी सारी गेंद यॉर्कर लैंथ पर ही थी। इसी के जरिए ने शमी ने वर्ल्‍ड कप में अपनी हैट्रिक बनाई

इसके बाद कहा जाने लगा कि महेंद्र सिंह धोनी कि इस जरूरी सलाह के बाद ही मोहम्मद शमी को एक नई ऊर्जा मिली और नबी को आउट करने के बाद लगातार दो खिलाड़ियों को क्लीन बोलकर के विश्व कप की भारत की ओर से दूसरी हैट्रिक बनाई।

इसे भी पढ़ें :

साफ होने लगी सेमीफाइनल तस्वीर, इन टीमों का रास्ता दिख रहा साफ

World Cup 2019 : विराट कोहली ने तोड़ा सचिन तेंदुलकर का सबसे बड़ा रिकॉर्ड

मैच के बाद खुद मोहम्मद शमी ने इस बात को स्वीकार किया कि धोनी की दी गई सलाह से उनको सही मंच पर और सही जगह पर गेंदबाजी करने का मौका मिला। और भारतीय टीम को उन्होंने शानदार तरीके से जीत दिलाई।

उन्होंने कहा, "मेरा प्लान सिंपल था। मैं यॉर्कर फेंकना चाहता था। यहां तक कि इसके बाद माही भाई ने भी मुझे यही करने को कहा।" उन्होंने कहा, "अब कुछ बदलने की जरूरत नहीं है क्योंकि अब तुम्हारे पास हैटट्रिक लेने का शानदार मौका है। यह एक दुर्लभ अवसर है, तुम्हें यही करने की जरूरत है। तो मैंने वही किया जो मुझे करने को कहा गया।"