IND vs AUS : धोनी-केदार का अर्धशतक, भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से हराया 

भारतीय खिलाड़ी - Sakshi Samachar

हैदराबाद : हैदराबाद में खेले जा रहे पहले वन-डे में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से हरा दिया है। केदार जाधव (81) और एमएस धोनी (59) की शानदार अर्धशतकीय पारियों की बदौलत टीम इंडिया ने पहले वन-डे में छह विकेट से हराकर पांच मैचों की वन-डे सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। रोहित शर्मा (34) और कप्तान विराट कोहली (44) रन बनाकर आउट हो गए।

इससे पहले टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलिया ने निर्धारित 50 ओवर्स में सात विकेट खोकर 236 रन बनाए। पूरे मैच में भारतीय गेंदबाजों ने कंगारुओं को हावी नहीं होने दिया।

ऑस्ट्रेलिया की ओर से सलामी बल्लेबाज उस्मान ख्वाजा ने सर्वाधिक 50 रन बनाए तो ग्लेन मैक्सवेल ने 40 रन की पारी खेली। भारत के लिए मोहम्मद शमी (10 ओवर्स में 44 रन) और 'चाइनामैन' कुलदीप यादव (10 ओवर में 46 रन) ने 2-2 विकेट चटकाए। जसप्रीत बुमराह और केदार जाधव के खाते में 2-1 विकेट आए।


एक समय ऑस्ट्रेलियाई टीम बेहद कम स्कोर पर सिमटते नजर आ रही थी। मगर सातवें विकेट के लिए एलेक्स कैरी (36*) और कोल्टर नाइल (28*) के बीच 62 रन की साझेदारी ने उन्हें सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी कंगारू टीम की शुरुआत बेहद निराशाजनक रही। जब बुमराह ने विपक्षी कप्तान आरोन फिंच को दूसरे ओवर की तीसरी गेंद पर ही बिना खाता खोले लौटा दिया।


टीम इंडिया धीरे-धीरे विश्व कप के रंग में ढल रही है और जहां तक कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का संबंध है, तो हाल में समाप्त हुई टी-20 सीरीज में 0-2 की हार भी इस योजना पर कोई असर नहीं होगा।


टी-20 सीरीज में भारत को आखिरी ओवरों में दिक्कतों का सामना करना पड़ा था और इसी कारण उसे दोनों मैचों में हार मिली थी। वनडे सीरीज में भी टीम के पास भुवनेश्वर कुमार का विकल्प मौजूद नहीं है। चयनकर्ताओं ने उन्हें आराम दिया है। भुवनेश्वर डेथ ओवरों में भारत के बेहद अहम गेंदबाज हैं। आखिरी ओवरों में उनकी कमी टी-20 में भारत को खल चुकी है।

डेथ ओवरों में भारत के पास एक मात्र विकल्प जसप्रीत बुमराह हैं। उन्हें दूसरे छोर से मदद की जरूरत है और इसके लिए मोहम्मद शमी पर भरोसा किया जा सकता है। इन दोनों के अलावा तेज गेंदबाजी में भारत के पास सिद्धार्थ कौल भी मौजूद हैं। उम्मीद की जाएगी कि टी-20 में डेथ ओवरों की असफलता को भारत वनडे में खत्म करेगा।

हार्दिक पांड्या की गैरमौजूदगी में विजय शंकर का खेलना तय है। इस लिहाज से अंतिम-11 में बुमराह और शमी का खेलना तय माना जा रहा है। हैदराबाद की विकेट को देखते हुए पूरी संभावना है कि भारत दो स्पिन गेंदबाजों -युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव- के साथ उतरे।

बल्लेबाजी में कप्तान विराट कोहली के अलावा रोहित शर्मा, शिखर धवन अहम खिलाड़ी हैं। आखिरी टी-20 में कोहली ने रोहित को आराम दिया था और शिखर धवन को लोकेश राहुल के साथ पारी की शुरुआत करने भेजा था। राहुल को कोहली ने दोनों टी-20 मैचों में मौका दिया था। वह वनडे में भी राहुल को मौका दे सकते हैं।

अगर राहुल को मौका मिलता है तो यह उनके लिए विश्व कप टीम के लिए अपनी दावेदारी पेश करने का अच्छा अवसर होगा। मध्यक्रम में कोहली के पास केदार जाधव, अंबाती रायडू और ऋषभ पंत के विकल्प मौजूद हैं। बीती वनडे सीरीजों में दिनेश कार्तिक को भारत ने काफी आजमाया, लेकिन वह ज्यादा सफल नहीं हो सके। इसलिए अब पंत को मौका मिला है। पंत के पास भी विश्व कप के लिए दावेदारी ठोकने का मौका है।

वहीं आस्ट्रेलिया की बात की जाए तो उसके लिए कप्तान एरॉन फिंच का फॉर्म चिंता का विषय है। हाल ही में भारत ने आस्ट्रेलिया का दौरा किया था। वहां भी फिंच का बल्ला खामोश था। बीते 10 वनडे मैचों में फिंच ने सिर्फ 225 रन बनाए हैं। मेहमान टीम के लिए अच्छी बात यह है कि ग्लैन मैक्सवेल फॉर्म में वापसी कर गए हैं। टी-20 सीरीज में उन्होंने पहले मैच में अर्धशतक और दूसरे मैच में शतक जमाया था।

इसे भी पढें :

वर्ल्ड कप में भारत के साथ है पाक का मैच, इंडियन प्लेयर बोले - कर देना चाहिए अलग - थलग

इन दोनों के अलावा एलेक्स कैरी, उस्मान ख्वाजा, पीटर हैंड्सकॉम्ब, शॉन मार्श जैसे अच्छे बल्लेबाज भी आस्ट्रेलिया के पास हैं। मार्क स्टोइनिस वनडे में भारत के लिए गेंद और बल्ले दोनों से बड़ा खतरा हो सकते हैं।

गेंदबाजी में पैट कमिंस, झाए रिचर्डसन, केन रिचडर्सन और नाथन कल्टर नाइल पर आस्ट्रेलिया काफी हद तक निर्भर करेगी। उसके पास एडम जाम्पा और एश्टन टर्नर के तौर पर दो स्पिनर भी हैं, लेकिन टी-20 में ये दोनों ज्यादा प्रभाव नहीं छोड़ पाए थे। वनडे में आस्ट्रेलियाई टीम मध्य के ओवरों में इन दोनों से विकेट निकालने के अलावा रन रोकने की उम्मीद करेगी।

टीमें (संभावित) :


भारत : विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शिखर धवन, लोकेश राहुल, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), केदार जाधव, अंबाती रायडू, विजय शंकर, ऋषभ पंत, रवींद्र जडेजा, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, सिद्धार्थ कौल, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह।

आस्ट्रेलिया : एरॉन फिंच (कप्तान), जेसन बेहरनडोर्फ, एलैक्स कैरी, नाथन कल्टर नाइल, पैट कमिंस, पीटर हैंड्सकॉम्ब, उस्मान ख्वाजा, नाथन लॉयन, शॉन मार्श, ग्लैन मैक्सेवल, झाए रिचर्डसन, केन रिचर्डसन, मार्कस स्टोइनिस, एश्टन टर्नर और एडम जाम्पा।

Advertisement
Back to Top