माउंट माउंगानुई : टीम इंडिया ने शनिवार को माउंट मॉनगनुई में दूसरा वन-डे जीतकर देशवासियों को गणतंत्र दिवस का तोहफा दिया। यहां भारतीय टीम ने अपने हरफनमौला प्रदर्शन के दम पर शनिवार को बे ओवल मैदान पर खेले गए दूसरे वनडे मैच में न्यूजीलैंड को 90 रनों से हरा दिया।इसी के साथ भारत ने पांच मैचों की सीरीज में 2-0 की बढ़त ले ली है।

टॉस जीतकर भारत ने बल्लेबाजी चुनी। उसने रोहित शर्मा (87), शिखर धवन (66), महेंद्र सिंह धोनी (नाबाद 48), अंबाती रायडू (47) और कप्तान विराट कोहली (43) की पारियों के दम पर निर्धारित 50 ओवरों में चार विकेट के नुकसान पर 324 रनों का मजबूत स्कोर खड़ा किया। किवी टीम इस लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाई और 40.2 ओवरों में 234 रनों पर ढेर हो गई।

बल्लेबाजों की तरह गेंदबाजों ने भी संयुक्त प्रदर्शन किया। कुलदीप यादव ने चार विकेट अपनी झेली में डाले तो वहीं भुवनेश्वर कुमार और युजवेंद्र चहल को दो-दो सफलताएं मिलीं। मोहम्मद शमी और केदार जाधव एक-एक विकेट लेने में सफल रहे।

मजबूत लक्ष्य का पीछा करने उतरी मेजबान टीम को भुवनेश्वर ने संभलने नहीं दिया और 23 के कुल स्कोर पर मार्टिन गुप्टिल (15) को आउट कर भारत को पहली सफलता दिलाई। कप्तान केन विलियमसन (20) को शमी ने अपना शिकार बनाया।

यहां से लगतार विकेट गिरने का सिलसिला शुरू हो गया। 166 के कुल स्कोर तक आते-आते किवी टीम ने अपने आठ विकेट खो दिए। डग ब्रैसवेल ने अंत में कुलदीप और चहल पर कुछ अच्छे शॉट्स लगाकर अर्धशतक जमाया। उनकी 46 गेंदों में पांच चौके और तीन छक्कों की मदद से खेली गई 57 रनों की पारी का अंत भुवनेश्वर ने 224 के कुल स्कोर पर किया।

इसे भी पढ़ें :

माउंट माउंगानुई वनडे : भारत ने न्यूजीलैंड के सामने रखा 325 रन का भारी लक्ष्य

ब्रैसवेल के बाद टीम के सर्वोच्च स्कोरर टॉम लाथम (34) रहे। ट्रैंट बाउल्ट 10 रन बनाकर नाबाद लौटे। इससे पहले, कोहली ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी चुनी। रोहित और धवन ने टीम को अच्छी शुरुआत दी और पहले विकेट के लिए 154 रन जोड़े। यह इन दोनों के बीच 14वीं शतकीय साझेदारी थी। शतकीय साझेदारी करने के मामले में धवन और रोहित ने सचिन तेंदलुकर-वीरेंद्र सहवाग (13) को पछाड़ दिया।

रोहित का यह 38वां वनडे अर्धशतक है तो वहीं धवन का वनडे में यह 27वां अर्धशतक है। रोहित का यह न्यूजीलैंड में सर्वोच्च स्कोर भी है।

26वें ओवर की पहली गेंद पर बाउल्ट ने धवन को विकेटकीपर लाथम के कैच कराते हुए उनकी पारी का अंत किया। धवन ने अपनी पारी में 67 गेंदों का सामना किया और नौ चौके मारे। दूसरे छोर से रोहित अपने एक और शतक की ओर बढ़ रहे थे, लेकिन लॉकी फग्र्यूसन ने रोहित को 172 के कुल स्कोर पर कोलिन डी ग्रांडहोम के हाथों उन्हें कैच करा शतक पूरा नहीं करने दिया।

दोनों सेट बल्लेबाजों के जाने के बाद भी भारत का स्कोर बोर्ड रुका नहीं। कोहली और रायडू ने लगातर रन लेकर उसे चालू रखा, हालांकि यहां किवी गेंदबाजों ने भारतीय रन गति को ज्यादा तेज नहीं होने दिया। कोहली और रायडू ने तीसरे विकेट के लिए 64 रनों की साझेदारी की। बाउल्ट ने कोहली को ईश सोढ़ी के हाथों कैच करा उनकी पारी का अंत किया।

यहां भारत का 300 के पास जाना मुश्किल लग रहा था। इसी मुश्किल में 46वें ओवर की चौथी गेंद पर रायडू, फग्र्यूसन को उन्हीं की गेंद पर कैच दे बैठे। रायडू ने 49 गेंदें खेलीं और तीन चौके तथा एक छक्का लगाया।

अंत में हालांकि धोनी ने तेजी से रन बटोरे और भारत को 49वें ओवर में 300 पार पहुंचा दिया। आखिरी ओवर में धोनी और जाधव ने 21 रन बटोरते हुए टीम को मजबूत स्कोर दिया। धोनी ने अपनी नाबाद पारी में 33 गेंदें खेलीं जिसमें पांच चौके और एक छक्का शामिल रहा। जाधव ने सिर्फ 10 गेंदों का सामना किया और तीन चौकों के अलावा एक छक्का मारा। न्यूजीलैंड के लिए बाउल्ट और फग्र्यूसन ने दो-दो विकेट लिए।