वाशिंगटन : गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुंदर पिचाई का कहना है कि भारतीय बाजार की विशालता ने उनकी कंपनी को इसी देश में अपने कुछ नए उत्पादों का विकास करने का मौका दिया और फिर उन्हें अंतरराष्ट्रीय बाजार में ले जाया गया। पिचाई भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक हैं।

पिचाई यहां अमेरिका-भारत व्यापार परिषद द्वारा आयोजित ‘इंडिया आइडियाज' शिखर सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि निजता के मुद्दे को लेकर भारत और अमेरिका एक मानक नियम बनाने में अग्रणी भूमिका निभा सकते हैं जिसमें निजी सूचनाओं की सुरक्षा के साथ मुक्त डिजिटल व्यापार सुनिश्चित किया जा सकता है।

इस अवसर पर उन्हें ‘ग्लोबल लीडरशिप' (वैश्विक नेतृत्व) सम्मान दिया गया। पिचाई ने कहा कि सामाजिक आर्थिक हालातों और शासन प्रणाली को बेहतर बनाने की दिशा में भारत सरकार ने बहुत अच्छा काम किया है। उसने प्रौद्योगिकी को इसका एक अनिवार्य अंग बनाया है। हमें इसका हिस्सा बनने पर गर्व है। इस अवसर पर नैसडैक की अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी एडेना फ्राइडमैन को भी एक पुरस्कार से नवाजा गया।

ये भी पढ़ें: अमेजन बना दुनिया का टॉप ब्रांड, एपल और गूगल  को  छोड़ा पीछे

एंड्राइड फोन के भारतीय विनिर्माताओं के संदर्भ में पिचाई ने कहा, ‘‘ हम हर साल फोन को सस्ता बनाने का पूरा ख्याल रखते हैं ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इसका उपयोग कर सकें। 2004 में बमुश्किल दो ही भारतीय विनिर्माता भारत में फोन बना रहे थे। अब यह संख्या 200 है।'' उन्होंने कहा, ‘‘हमारे उत्पाद एक आधाभूत भूमिका अदा करते रहे हैं। लेकिन अब अधिकाधिक इसका उलट हो रहा है।भारतीय बाजार के आकार ने हमें अब ऐसे उत्पाद विकसित करने का मौका दिया है जो वास्तव में वैश्वक स्तर पर ले जाए जाते हैं। ''

उन्होंने गूगल के डिजिटल भुगतान उत्पाद का जिक्र किया और कहा....भारत डिजिटल भुगतान की ओर बढ़ रहा था, इसलिए हमने सोचा यह भविष्य के भुगतान(के तरीकों) को आगे बढ़ाने का सबसे सही बाजार है।हमने कोशिश की और इसने अच्छा काम किया।

अब हम इसे वैश्विक बाजार में ले जाने पर विचार कर रहे हैं। पिचाई ने कहा कि भारत सिर्फ एक अवसर की तरह नहीं है बल्कि हम भारत में बना भी रहे और वैश्विक बाजार में बेच भी रहे हैं। इसलिए यह रोमांचक समय है।